विज्ञापन

चाणक्य नीति: बच्चों को योग्य बनाने के लिए माता-पिता को याद रखनी चाहिए ये बातें

Shashi Shashi
धर्म डेस्क, अमर उजाला Published by: Shashi Shashi
Updated Wed, 20 Jan 2021 10:58 AM IST
आचार्य चाणक्य
1 of 4
चाणक्य की गिनती आज के समय में भी श्रेष्ठ विद्वानों में होती है। आचार्य चाणक्य ने तक्षशिला विश्वविद्यालय में शिक्षा ग्रहण की और फिर वही पर विद्यार्थियों को शिक्षा भी प्रदान की। वे एक योग्य शिक्षक भी थे।चाणक्य के अनुसार किसी भी माता-पिता के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि उनकी योग्य संतान होती है। संतान योग्य बनाने के लिए माता पिता की भूमिका अहम होती है। माता पिता के द्वारा ही संतान में श्रेष्ठ गुणों की नींव डाली जाती है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि यदि संतान को योग्य बनाना है तो बच्चों की परवरिश करते हुए कुछ बातों को ध्यान में रखना आवश्यक होता है।
अगली स्लाइड देखें
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X