लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

चरित्र पर शक: पुष्पेंद्र के प्यार में इशरत से बनी सोनी...जिसके लिए छोड़ा धर्म और घर, अब उसी ने मार डाला

अमर उजाला नेटवर्क, लखनऊ Published by: शाहरुख खान Updated Sun, 25 Sep 2022 11:21 AM IST
lucknow murder
1 of 7
विज्ञापन
लखनऊ के मड़ियांव की रहने वाली इशरत परवीन (30) ने मोहब्बत में धर्म बदला और जीवन भर साथ निभाने के वादे पर सोनी तिवारी बन गई। लेकिन उसे इसका तनिक भी अंदाजा नहीं था कि जिस पुष्पेंद्र तिवारी को अपना सबकुछ मानकर उसने अपने वजूद से समझौता किया है वो ही उसका कातिल निकलेगा। इस साजिश में पुष्पेंद्र ने अपने छोटे भाई गोविंद तिवारी व दोस्त सूरज वर्मा की मदद ली। दृश्यम फिल्म देखकर शातिर पुष्पेंद्र ने खुद को बचाने के लिए सारे हथकंडे अपनाए, लेकिन लगातार बयान बदलने के चलते पुलिस का शक गहरा गया। पुलिस ने गुपचुप तरीके से हत्याकांड का पर्दाफाश कर तीन आरोपियों को जेल भेज दिया। प्रभारी निरीक्षक सुशांत गोल्फ सिटी शैलेंद्र गिरी के मुताबिक, मूलरूप से गोंडा के छपिया स्थित मसकनवा का रहने वाला पुष्पेंद्र तिवारी उर्फ शुभम 2019 में मड़ियांव के एक जिम में ट्रेनर था, जहां मड़ियांव की इशरत परवीन भी आती थी। प्रशिक्षण के दौरान दोनों में मोहब्बत हो गई। कुछ दिन साथ रहने के बाद पुष्पेंद्र मॉडल बनने मुंबई चला गया। 
lucknow murder
2 of 7
उसके पीछे इशरत भी पहुंच गई। वहां धर्म व नाम बदलकर सोनी तिवारी बनी और आर्य समाज मंदिर में शादी की। करीब छह महीने बाद कोरोना संकट आया तो दोनों लखनऊ लौट आए। जिम बंद होने के चलते पुष्पेंद्र बेरोजगार हो गया। इस बीच पुष्पेंद्र मड़ियांव में किराये का मकान छोड़कर गुडंबा के आदिलनगर में किराये पर रहने लगा, जहां इशरत उर्फ सोनी भी उसके साथ रहती थी। 
विज्ञापन
फाइल फोटो
3 of 7
रोजगार की तलाश में काफी दिन भटकने के बाद पुष्पेंद्र ने करीबियों के सहयोग से मसकनवा गांव के बाजार में जिम खोल लिया। वह बीच-बीच में लखनऊ आता था। इसे लेकर सोनी से तकरार होने लगी। इस पर परिजनों ने अलग होने की सलाह दी, लेकिन पुष्पेंद्र ने मना कर दिया। इस बीच पुष्पेंद्र को शक हुआ कि सोनी का किसी दूसरे युवक से संबंध हो गया है।
फाइल फोटो
4 of 7
इसके बाद ही उसने हत्या की साजिश रची और भाई गोविंद को इसमें शामिल किया। पहले तो वह नहीं माना, लेकिन जब पुष्पेंद्र ने दृश्यम फिल्म दिखाई तो तैयार हो गया। पुलिस ने इसकी पुष्टि पुष्पेंद्र व गोविंद के व्हाट्सएप चैटिंग से की है। पुलिस के मुताबिक, हत्या में शामिल तीनों आरोपियों से अलग-अलग पूछताछ की गई। खदरा निवासी सूरज वर्मा ने कुबूला कि दोस्ती के चलते पुष्पेंद्र का साथ दिया। बताया कि गैराज में पड़ी पुष्पेंद्र की कार की मरम्मत के लिए सूरज ने अपनी बाइक गिरवी रखकर 15 हजार रुपये जुटाए थे। 
विज्ञापन
विज्ञापन
फाइल फोटो
5 of 7
आरोपियों ने कुबूला कि वारदात आदिलनगर वाले किराये के मकान में दो सितंबर को तड़के चार बजे के करीब अंजाम दी। इससे पहले शाम को सूरज अपनी स्कूटी से गोविंद को लेकर पहुंचा और एक दोस्त के यहां रुके। साजिश के तहत पुष्पेंद्र ने दरवाजा खोलकर दोनों को कमरे में दाखिल कराया। इसके बाद गोविंद ने सो रही सोनी का पैर व सूरज ने हाथ पकड़ लिया। सोनी कुछ समझ पाती इससे पहले ही पुष्पेंद्र ने तौलिये से उसका मुंह दबाकर मार डाला। जमीन पर शव को बैठने की मुद्रा में रखकर ऊपर से बोरी डालकर बांधा और कार की पिछली सीट पर डाल दिया। इसके बाद सूरज स्कूटी से और दोनों भाई कार से निकल गए। बहराइच के पास घाघरा नदी में शव फेंका और लौट आए।
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00