लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

World Hypertension Day 2021: जानिए विश्व उच्च रक्तचाप दिवस का इतिहास, महत्व एवं इससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातें 

अमर उजाला, न्यूज डेस्क, नई दिल्ली Published by: तेजस्वी मेहता Updated Sun, 16 May 2021 09:01 AM IST
उच्च रक्तचाप के प्रति लोगों में जागरूकता की कमी है
1 of 5
विज्ञापन

प्रतिवर्ष 17 मई को पूरे विश्वभर में विश्व उच्च रक्तचाप दिवस मनाया जाता है जिसे कि वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे भी कहा जाता है। उच्च रक्तचाप से पूरी दुनिया में कई सारे मरीज पीड़ित हैं। उच्च रक्तचाप के प्रति लोगों में जागरूकता की कमी है। अक्सर लोग इसे हल्के में लेते हैं लेकिन उच्च रक्तचाप कई बड़ी बीमारियों को जन्म देता है। अगली स्लाइड्स से जानिए हाइपरटेंशन और वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें। 

 


 
आए दिन लोगों का रक्तचाप बढ़ रहा है
2 of 5

विश्व उच्च रक्तचाप दिवस का इतिहास
पहली बार विश्व उच्च रक्तचाप दिवस 2005 में मनाया गया। इसकी शुरुआत वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग द्वारा की गई। 2006 से प्रतिवर्ष 17 मई को इसे मनाया जाने लगा। बदलती दिनचर्या के साथ आए दिन लोगों का रक्तचाप बढ़ रहा है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि इसपर नियंत्रण पाया जाया क्योंकि विश्व का हर चौथा व्यक्ति इस समस्या से जूझ रहा है। 

 

विज्ञापन
ऐसी स्थिति को उच्च रक्तचाप कहा जाता है
3 of 5

क्या है उच्च रक्तचाप?
एक सामान्य व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 120/ 80 होता है। यदि ये 140/90 या उससे ऊपर ज्यादा है तो ऐसी स्थिति को उच्च रक्तचाप कहा जाता है। मोटापा, अव्यवस्थित दिनचर्या, जेनेटिक कारणों से भी लोगों में उच्च रक्तचाप की समस्या होती है। रक्तचाप के बढ़ने पर हार्ट पर दबाव पड़ने लगता है जो कि स्वास्थ्य की दृष्टि से बिल्कुल भी ठीक नहीं है। । 

हाइपरटेंशन के मरीज को हार्ट अटैक एवं स्ट्रोक का खतरा होता है
4 of 5

हाइपरटेंशन इसलिए है खतरनाक
हाइपरटेंशन सिर्फ स्वयं तक सीमित नहीं रहता है, धीरे-धीरे उससे कई बीमारियां पनपने लगती हैं। हाइपरटेंशन के मरीज को हार्ट अटैक एवं स्ट्रोक का खतरा होता है। ऐसे व्यक्ति को हमेशा सावधानी रखना चाहिए। इससे किडनी के खराब होने एवं अन्य अंगों के खराब होने का खतरा भी बना रहता है। 

 

विज्ञापन
विज्ञापन
सामूहिक चर्चाओं का आयोजन होता है
5 of 5
इस तरह मनाया जाता है विश्व हाइपरटेंशन दिवस
विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर लोगों को इसके प्रति जागरूक किया जाता है। विशेषज्ञों के सेमिनार का आयोजन होता है। स्वास्थ्य संस्थानों में इसपर और इससे जुड़े विषय पर सामूहिक चर्चाओं का आयोजन होता है। मरीजों को इससे निजात पाने के उपाय बताए जाते हैं। कोरोना के कारण इस साल इस दिन का आयोजन ऑनलाइन ही होना है
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00