लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

SD Burman: फुटबॉल टीम के हारने पर बनाते थे दुख वाले गीत, कंजूसी इतनी कि चप्पल चोरी के डर से अपनाते थे ये उपाय

एंटरटेनमेंट डेस्क, अमर उजाला Published by: निधि पाल Updated Sat, 01 Oct 2022 07:33 AM IST
एसडी बर्मन
1 of 4
विज्ञापन
हिंदी फिल्म इंटस्ट्री के संगीत जगत में कई गायकों का योगदान रहा है। लेकिन कुछ सितारों ऐसी छाप छोड़ी कि जमाने बदल गए, पर उनकी छाप को कोई न मिटा सका। ऐसे ही एक संगीतकार थे सचिन देव बर्मन। सचिन देव बर्मन को लोग आज भी एसडी बर्मन के नाम से जानते हैं। भारतीय सिनेमा में उनके योगदान को कोई खारिज नहीं कर सकता है। हिंदी फिल्मों में संगीत को उन्होंने नया मुकाम दिया। 100 से ज्यादा फिल्मों के म्यूजिक डायरेक्टर एसडी बर्मन साहब ने लता मंगेशकर से लेकर मोहम्मद रफी, किशोर कुमार से लेकर मुकेश तक हर किसी के करियर को सातवें आसमान पर पहुंचाया। आज उनकी बर्थ एनिवर्सरी के मौके पर उनसे जुड़ी कुछ खास बातें जानते हैं-
एसडी बर्मन
2 of 4
बंगाल प्रेजिडेंसी में 1 अक्टूबर 1906 को पैदा हुए एसडी बर्मन की मां का नाम राजकुमारी निर्मला देवी था। वह मणिपुर की राजकुमारी थीं, जबकि उनके पिता एमआरएन देव बर्मन त्रिपुरा के महाराज के बेटे थे। सचिन देव बर्मन 9 भाई-बहन थे। पांच भाइयों में वह सबसे छोटे थे। राजघराने से ताल्लुक रखने के बावजूद सचिन देव बर्मन के कंजूसी के किस्से पूरी इंडस्ट्री में मशहूर हैं। एसडी बर्मन खर्च नहीं करते थे। इसलिए उन्हें इंडस्ट्री में बहुत से लोग कंजूस कहते थे। 
विज्ञापन
एसडी बर्मन, आरडी बर्मन और लता मंगेशकर
3 of 4
एसडी बर्मन को खाने-पीने का बहुत शौक था। फुटबॉल उन्हें बहुत पसंद था। बताया जाता है कि एक बार जब मोहन बगान की टीम हार गई तो उन्होंने गुरुदत्त से कहा कि आज वह खुशी का गीत नहीं बना सकते हैं। कोई दुख वाला गीत है तो बनवा लो। हिंदी फिल्मों में बेहतरीन संगीत देने वाले एसडी बर्मन ने म्यूजिक इंडस्ट्री में सितारवादन के साथ कदम रखा था। कोलकाता यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करने के बाद वह 1932 में कलकत्ता रेडियो स्टेशन पर गायक के तौर जुड़े थे।
एसडी बर्मन
4 of 4
एसडी बर्मन की कंजूसी के किस्सों के बारे में उनके बेटे आर डी बर्मन ने बायोग्राफी में खगेश देव बर्मन ने लिखा है। उसी में से एक किस्सा है चप्पल का। दरअसल जब भी एसडी बर्मन मंदिर जाते थे तो वह कभी भी दोनों चप्पल एकसाथ नहीं उतारते थे। इसके बारे में जब उनसे पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि आजकल शहर में चप्पल चोरी की वारदात बढ़ गई है। तब उनके दोस्त ने पूछा कि अगर चोर ने दोनों चप्पलें खोज लीं तो? ऐसे में उन्होंने मजाकिया अंदाज में जवाब दिया कि यदि चोर इतनी चप्पलों में से दोनों चप्पलें खोज निकालता है, तो सच में वह इसका हकदार है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00