लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

नया इतिहास: सीएम के लिए जीत से ज्यादा थे रिकॉर्ड के मायने, टीम धामी ने ऐसे किया काम, एक नजर में पढ़ें ये खास बातें और देखें तस्वीरें

न्यजू डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Published by: रेनू सकलानी Updated Sat, 04 Jun 2022 09:31 AM IST
चंपावत उपचुनाव में सीएम धामी की जीत के बाद जश्न  मनाते समर्थक
1 of 5
विज्ञापन
चंपावत उपचुनाव में भाजपा के दो लक्ष्य थे। पहला रिकॉर्ड मतदान करना और दूसरा उपचुनाव में सबसे ज्यादा अंतर से जीत हासिल करना। मतदान में नया रिकॉर्ड बनाने की मंशा तो भाजपा की पूरी नहीं हो पाई, लेकिन उपचुनाव में सबसे ज्यादा अंतर से जीत हासिल करना लक्ष्य पूरा हो गया है। 

सीएम पुष्कर सिंह धामी की जीत के साथ ही उत्तराखंड में नया इतिहास जुड़ गया है। उपचुनाव में उनकी जीत तो पहले से ही तय थी, लेकिन सीएम के लिए जीत से ज्यादा रिकॉर्ड के मायने थे और रिकॉर्ड जीत के लिए टीम धामी ने मजबूती से काम किया। चंपावत उपचुनाव में 58 हजार से अधिक वोटों से जीत नया कीर्तिमान रचा है। 

पार्टी ने इस चुनाव को हल्के में नहीं लिया। यही वजह रही कि अब तक कोई मुख्यमंत्री उपचुनाव में इतने मतों से नहीं जीता है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, रक्षा राज्य मंत्री और उत्तराखंड के दो पूर्व मुख्यमंत्री ने भी चंपावत आकर प्रचार को धार दी है। संगठन के स्तर पर राष्ट्रीय महामंत्री विनोद तावड़े, प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम, सह प्रभारी रेखा वर्मा सहित संगठन के दिग्गजों ने कार्यकर्ताओं को अधिक मतदान के लिए प्रेरित करते रहे, जिसने धामी के पक्ष को मजबूत किया।
जीत के जश्न
2 of 5

सीएम धामी की जीत के यूं तो कई मुख्य कारण रहे, लेकिन इसमें एक सबसे बड़ी वजह कमजोर विपक्ष भी रहा। चंपावत उपचुनाव प्रचार शुरू होने से मतदान निपटने तक कांग्रेस के 90 प्रतिशत वरिष्ठ कार्यकर्ता नदारद थे। इसके लिए सबने कई बहाने बनाए। कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी भी इस रवैया से आहत हुई।

विज्ञापन
जश्न मनाते भाजपा कार्यकर्ता
3 of 5
वर्ष 2012 के उपचुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने 53766 वोट लाकर सितारगंज सीट 39966 वोटों से जीती थी। वहीं चंपावत सीट पर सबसे बड़ी जीत 2017 में भाजपा के कैलाश गहतोड़ी की 17360 वोटों से रही। 
जश्न मनाते समर्थक
4 of 5
वर्ष        सीएम प्रत्याशी        वोट                प्रतिद्वंद्वी              वोट        जीत का अंतर 
2002       एनडी तिवारी         32913            राम सिंह बिष्ट       9693        23220 
2007       बीसी खंडूरी          24347            सुरेंद्र सिंह नेगी     10256       14091 
2012      विजय बहुगुणा       53766            प्रकाश पंत        13800         39966 
2014      हरीश रावत           31214              विष्णु दत्त         10610         20604 

ये भी पढ़ें...Heatwave: शुष्क हवाओं ने बदला मौसम का मिजाज, अगले सात दिन हो जाएं सावधान, येलो अलर्ट

विज्ञापन
विज्ञापन
जश्न मनाते समर्थक
5 of 5
चंपावत उपचुनाव के एक दिन पहले भाजपा प्रत्याशी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वोटरों से संवाद किया था और अधिक से अधिक मतदान की अपील की। उन्होंने एक दुकान पर चाय की चुस्की ली। बाद में बाइक पर सवार होकर घर-घर दस्तक दी। बाइक पर उनके साथ पूर्व विधायक कैलाश गहतोड़ी भी सवार थे। उसके इस डोर टू डोर अभियान का भी मतदाताओं पर असर पड़ा।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00