ससुर खदेरी के पुनरोद्धार से आई खुशहाली

अमर उजाला ब्यूरो , फतेहपुर Updated Thu, 09 Nov 2017 11:16 PM IST
Rejuvenation came from the revival of sasur khaderi
यमुना नदी का घटा जलस्तर - फोटो : amar ujala
आंध्र प्रदेश के आईएएस अफसर और टीम ने गुरुवार को ससुर खदेरी नदी और ठिठौरा झील का निरीक्षण किया। नदी के पुनरोद्धार से क्षेत्रीय लोगों को कितना फायदा हुआ, इसकी भी जानकारी ली। इस मामले में अलग-अलग गांवों में टीम ने किसानों से बातचीत की।
आंध्र प्रदेश के आईएएस पीएस रवी सुभाष ने गुरुवार को सबसे पहले हसवा ब्लाक के सेमरी गांव के पास ससुर खदेरी नदी का निरीक्षण किया। यहां के किसानों से बातचीत की। किसानों ने बताया कि जब से नदी की खुदाई हो गई और चेकडैम बन गया है। नदी के किनारे वाले खेतों में फसल की पैदावार बढ़ गई है।

पहले बारिश के दिनों में फसलें डूब जाती थी। अब बारिश का पानी खेतों में नहीं भरता है। पानी नदी में हमेशा बना रहता है। नदी में जेटपंप रखकर फसलों की सिंचाई भी हो जाती है। इसके बाद टीम ने रावतपुर के पास नदी पर बने डैम और ठिठौरा झील को देखा और आसपास के किसानों की फसलें देखी। इस मौके पर डीसी मनरेगा पुतान सिंह, निचली गंगा नहर अधिशासी अभियंता वैभव सिंह, आरडीए के अनिल कुमार श्रीवास्तव भी मौजूद रहे।

जीर्णोद्धार के बाद ससुर खदेरी का बढ़ा जलस्तर
ससुर खदेरी नदी का जीर्णोद्धार तत्कालीन डीएम कंचन वर्मा ने कराया था। मनरेगा मजदूरों ने नदी की खुदाई की थी। नदी के जीर्णोद्धार के बाद नदी में 8 से 10 महीना पानी भरा रहता है। इससे आसपास के गांव जलस्तर आठ से दस फीट ऊपर आ गया है। नदी से फसलों की सिंचाई भी हो रही है।

इन गांवों को हुआ फायदा
रावतपुर प्रधान सुरिजपाल रावत ने बताया कि ससुर खदेरी नदी की खुदाई से जल संचय हुआ है। नदी में हमेशा पर्याप्त पानी रहता है। इससे किसान फसलों की सिंचाई करते हैं। क्षेत्र के कुसुंभी, टीसी, अतरहा, सेमरी, लेखराजपुर, रावतपुर, ठिठौरा, दुगरेई, सहिली, फरीदपुर, तारापुर, बादलपुर, मुचुवापुर समेत कई दर्जन गांव के किसानों को लाभ हुआ है।

मवेशियों को भी मिलने लगा पानी
ठिठौरा प्रधान भोला प्रसाद ने बताया कि झील की खुदाई होने से हमेशा पानी भरा रहता है। इससे पालतू और घुमंतू मवेशियों के पानी पीने की समस्या खत्म हो गई है। पक्षियों के झुंड भी झील में रहते हैं। जो झील की शोभा बढ़ाते हैं।

नदी की खुदाई से 100 हेक्टेयर में बढ़ी पैदावार
जिला कृषि अधिकारी अमर सिंह ने बताया कि ससुर खदेरी नदी की खुदाई से करीब 100 हेक्टेयर जमीन की पैदावार बढ़ गई है। जहां असिंचित फसलें होती थी, वहां अब किसान धान, गेहूं की फसल पैदा कर रहे हैं। साथ ही हरी सब्जी की भी खेती करने लगे हैं। इससे नदी के आसपास के किसानों की आमदनी बढ़ गई है।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

रविवार के दिन मौज-मस्ती के बीच इन चीजों से रहें दूर

जानना चाहते हैं कि रविवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र, दिन के किस पहर में करने हैं शुभ काम और कितने बजे होगा सोमवार का सूर्योदय? देखिए, पंचांग गुरुवार 21 जनवरी 2018।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper