राजापुर पालिकाध्यक्ष पद के लिए 14 मैदान में

अमर उजाला ब्यूरो/चित्रकूट Updated Fri, 10 Nov 2017 11:09 PM IST
राजापुर (चित्रकूट)।  गोस्वामी तुलसीदास की जन्मस्थली राजापुर में नगर निकाय चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए 14 प्रत्याशी मैदान में हैं। सपा, भाजपा, कांग्रेस, बसपा के अलावा निर्दल प्रत्याशी भी चुनाव में अपनी ताकत दिखा रहे हैं।भाजपा के जिलाध्यक्ष अशोक जाटव का निवास भी राजापुर हैं। वह खुद इस सीट से दावेदार हैं और उनकी मां बसंती देवी यहां की चेयरमैन रह चुकी हैं। उनका मानना है कि प्रधानमंत्री मोदी व मुख्यमंत्री योगी ने जो क्षेत्र में काम कराया है उसी से पार्टी जन मिलकर जीत दिलाएंगे।
सपा प्रत्याशी लक्ष्मीप्रसाद दो बार चेयरमैन रहे हैं। वह जनसंघ से विधायक भी रह चुके हैं। उनका कहना है कि सपा के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस धर्मनगरी का नि:स्वार्थ भाव से विकास कराया है। इसी के आधार पर जनता उन्हें फिर चुनेगी और विरोधियों को जवाब मिलेगा।पूर्व विधायक व चेयरमैन शिवनरेश मिश्र के पुत्र समाजसेवी संजीव मिश्रा भाजपा से बगावत कर निर्दल चुनाव लड़ रहे हैं। संजीव खुद दो बार यहां सभासद रह चुके हैं। इस बार सामान्य सीट होने पर उन्होंने भाजपा से टिकट मांगा लेकिन न मिलने पर निर्दल मैदान में कूदे हैं। उनका कहना है कि अपने समाजकार्य की बदौलत जीतेंगे।

व्यापारी नेता के रूप में पहचान बनाने वाले स्थानीय सुभाष अग्रवाल ने भाजपा का दामन छोड़कर कांग्रेस का हाथ थामा है। उनका दावा है कि व्यापारियों के साथ ही क्षेत्र के हर वर्ग का सहयोग ही उनकी जीत का आधार है।टाउन एरिया के पूर्व सभासद रहे बसपा के ध्यानचंद्र शिवहरे का दावा है कि वह लगातार 25 साल से बसपा के निष्ठावान कार्यकर्ता रहे हैं। इसी कारण उन्हें टिकट मिला और अब पार्टी की नीति ही जीत का आधार बनेगी।नगर निकाय के चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए निर्दल महिला प्रत्याशी आदर्श द्विवेदी के पति शिक्षक व गोशाला संचालक हैं। उनके परिवार में नाना शिवनरेश रालही व मामा घनश्याम दास चुन्नू यहां के चेयरमैन रहे हैं। वह खुद पति के साथ क्षेत्र के हर समाजसेवा कार्य में हाथ बंटाती हैं। यही उनकी जीत का आधार बनेगा।  क्षेत्र में समाजसेवा करने के मामले में व्यापारी नेता शिवपूजन गुप्ता आगे रहते हैं। उनका मानना है कि भाजपा से टिकट मांगा था लेकिन टिकट न मिलने से निराश नहीं हैं और निर्दल ही जनता के बीच जाकर जीत कर आएंगे। निर्दल प्रत्याशी सुनील मिश्रा लगातार क्षेत्र में समाजसेवक के रूप में जाने जाते हैं। उनके चाचा श्यामचंद्र, भाभी मंजू देवी व भाई भी सभासद रह चुके हैं। उनके बाबा वैद्यजी के रूप में क्षेत्र में प्रसिद्ध हैं।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

पॉपोन के वायरल वीडियो के बाद सामने आया बच्ची और माता-पिता का वीडियो

पॉपोन के वायरल वीडियो और देशभर में हुए बवाल के बाद अब बच्ची और उसके माता-पिता का एक वीडियो सामने आया है जिसमें सभी पॉपोन का समर्थन कर रहे हैं। सुनिए क्या कहा बच्ची और उसके माता-पिता ने।

24 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen