बच्चे पैदा करने को नहीं होगी साथी की जरूरत

लंदन/एजेंसी Updated Sun, 19 Aug 2012 12:00 PM IST
sexless-reproduction-for-humans-soon
भविष्य में किसी पुरुष या महिला को बच्चे पैदा करने के लिए दूसरे साथी की जरूरत नहीं होगी। भारतीय मूल की एक विज्ञानी ने यह दावा किया है। लंदन के इंपीरियल कॉलेज की आरती प्रसाद ने कहा कि इनसान भी भविष्य में सेक्स या स्पर्म डोनर की मदद के बिना ही बच्चे पैदा कर सकेगा।
भारतीय वैज्ञानिक आरती ने किया दावा
आरती ने कहा कि आज से सालों पहले टेस्ट ट्यूब बेबी तकनीक के बारे में किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी, लेकिन अब यह हकीकत है। उसी तरह भविष्य में बिना सेक्स के बच्चे पैदा करना भी आम बात होगी। अपनी किताब ‘लिविंग ए वर्जिन’ में आरती ने इस गंभीर मुद्दे पर प्रकाश डाला है।
इसमें कहा गया कि हम ऐसे संसार में रह रहे हैं, जहां विज्ञान हर चीज को प्रभावित कर सकता है, यहां तक कि पुनरुत्पादन को भी।

ऑस्ट्रेलिया में हुई कृत्रिम गर्भाशयों की खोज
आरती ने कहा है कि वर्जिन बर्थ अब विज्ञान की हकीकत बन चुके हैं। वैज्ञानिक कृत्रिम गर्भाशय तैयार कर चुके हैं, जो प्लास्टिक का एक कंटेनर होता है। उसमें वही द्रव और बैक्टीरिया होते हैं, जो प्राकृतिक गर्भाशय में होते हैं। इन कृत्रिम गर्भाशयों की खोज ऑस्ट्रेलिया में हुई है।

आरती के मुताबिक एक दिन यह संभव होगा, जब कोई पुरुष किसी महिला के सहयोग के बिना ही इन कृत्रिम गर्भाशयों में बच्चा विकसित कर सकेगा। वह बताती हैं कि कृत्रिम स्पर्म पहले ही विकसित किए जा चुके हैं। ऐसे स्पर्म से बच्चे पैदा किए जा चुके हैं। ऐसे में वैज्ञानिकों के लिए कृत्रिम अंडाणु विकसित करना भी दूर की बात नहीं दिखती है।

विलुप्त होने के कगार पर है वाई क्रोमोसोम
आरती की किताब में इतिहास के कई ऐसे रोचक मामलों का जिक्र है, जिनसे लगता है कि बिना सेक्स के बच्चा पैदा करने की तकनीक खोजना अब बहुत मुश्किल नहीं है। आरती चेताती हैं कि दुनिया में नपुंसकता बढ़ रही है। इससे लगता है कि मानव जाति में बच्चे पैदा करने के सामान्य तरीके पर खतरे की तलवार लटक रही है। वह यह भी कहती हैं कि वाई क्रोमोसोम विलुप्त होने के कगार पर है।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

AIUDF और बदरुद्दीन अजमल के बारे में वो हर बात जो आप जानना चाहते हैं

सेना प्रमुख बिपिन रावत के बांग्लादेशी नागरिकों की असम में घुसपैठ और AIUDF पर दिए बयान से राजनीतिक बवाल मच गया है। सेना प्रमुख के बयान के बाद ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के चीफ बदरूद्दीन अजमल से पलटवार किया।

23 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen