हमलावरों को वजीरिस्तान में मिला था प्रशिक्षण

इसलामाबाद/एजेंसी Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
kamra-base-attackers-trained-in-waziristan-saus-rehman-malik

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने खुलासा किया है कि देश के प्रमुख कामरा एयरबेस पर हमला करने वाले आतंकियों को वजीरिस्तान के कबायली क्षेत्र में प्रशिक्षित किया गया था। उन्होंने कहा कि हमले की योजना के बारे में इस क्षेत्र से पता लगाया जा सकता है।
विज्ञापन

पत्रकारों से वार्ता के दौरान शुक्रवार को मलिक ने कहा कि बृहस्पतिवार को हुए इस हमले में शामिल नौ आतंकियों में से चार की पहचान कर ली गई है। उन्होंने दावा किया कि पाकिस्तानी वायु सैनिक अड्डों पर हमले की पूर्व चेतावनी के कारण ही कामरा हमले को विफल कर दिया गया और सभी आतंकी मारे गए।
उन्होंने स्वीकार किया कि उत्तरी और दक्षिण वजीरिस्तान अपराधियों के लिए सुरक्षित ठिकाना बना हुआ है। हालांकि उन्होंने उत्तरी वजीरिस्तान क्षेत्र में आतंकियों के खिलाफ अभियान चलाने के किसी निर्णय की संभावना को खारिज कर दिया। साथ ही कहा कि यह निर्णय विदेशी दबाव में नहीं लिया जाएगा। मलिक ने आगे कहा कि तालिबान देश भर के अपराधियों को शरण दे रहा है, उस मास्टरमाइंड का पता लगाने की जरूरत है जिसने आतंकियों को कामरा भेजा था।
गौरतलब है कि मलिक की यह तीखी टिप्पणी ऐसे समय आई है जब वजीरिस्तान क्षेत्र में सैन्य कार्रवाई को लेकर चर्चा जोरों पर है। बता दें कि कामरा हमले में नौ आतंकी और पाकिस्तान एयरफोर्स के दो जवान मारे गए थे। हमलावरों द्वारा दागे गए ग्रेनेड से साब-2000 सर्विलांस एयरक्राफ्ट को भी नुकसान पहुंचा था। प्रतिबंधित तहरीक ए तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी ली थी और इसे तालिबानी कमांडर बैतुल्लाह महसूद और ओसामा बिन लादेन की हत्या का बदला बताया था।

सुरक्षित हाथों में परमाणु हथियार
पश्चिमी मीडिया रिपोर्ट को खारिज करते हुए मलिक ने कहा कि पाकिस्तान की सुरक्षा और देश का परमाणु हथियार सुरक्षित हाथों में है। उन्होंने दावा किया, ‘जब हम परमाणु हथियार बना सकते हैं तो उसकी सुरक्षा करना भी जानते हैं।’
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us