विज्ञापन

US में सदी का सबसे भीषण सूखा

लंदन/एजेंसी Updated Wed, 18 Jul 2012 12:00 PM IST
us-suffering-worst-drought-in-56-years
ख़बर सुनें
अमेरिका सदी के सबसे भीषण सूखे की चपेट में हैं। सूखे का असर फसलों पर पड़ा है। कई जगहों पर दावानल के प्रकोप से जंग तबाह हो गए हैं। अमेरिकी मौसम विज्ञान नेशनल ओसियानिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) के अनुसार वर्ष 1956 के बाद से यह सबसे बड़ा सूखा है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार एनओएए ने सोमवार को कहा कि जून के अंत तक अमेरिकी महाद्वीप का 55 फीसदी हिस्सा औसत से गंभीर सूखे की चपेट में था।
विज्ञापन
विज्ञापन
अनाज का बड़ा निर्यातक है यूएस
इस सूखे की वजह से मक्के और सोयाबीन की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है। कई राज्यों में स्थित जंगलों में आग लगी हुई है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले दिनों खबर थी कि नौ राज्यों में 19 स्थानों पर भीषण आग लगी हुई है। अमेरिका गेहूं, सोयाबीन और मक्के का सबसे बड़ा निर्यातक देश है, इस लिए इस सूखे से दुनिया भर में अनाज उपलब्धता पर असर पड़ सकता है। इस संबंध में पहले ही चिंता जाहिर की जा चुकी है।

पूरे देश में जून में पड़ी भीषण गर्मी ने सूखे के प्रभाव को और बढ़ा दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका का 80 फीसदी हिस्सा असामान्य रूप से सूखा है। एनओएए ने कहा है कि रिकॉर्ड के अनुसार पिछला जून 14वां सबसे गर्म और 10वां सबसे सूखा जून रहा।

कहीं हो न जाए खाद्यान्न संकट
मध्य-पश्चिम अमेरिका के इलिनोइस राज्य के किसान कहते हैं कि उन्होंने इससे पहले इतनी सूखी धरती कभी नहीं देखी। एक किसान ने बताया, ‘काफी फसल पहले ही बर्बाद हो चुकी है। अब अगर बारिश हो भी जाए तो मुझे नहीं लगता कि फसल बचाई जा सकती है क्योंकि अब बहुत देर हो चुकी है।’

एक और किसान ने कहा, ‘मैं मानता हूं कि वर्ष 1988 के बाद से ये अब तक का सबसे भीषण सूखा है। बल्कि मुझे लगता है कि ये 1988 से भी बुरा समय है क्योंकि उस साल कम से कम शुरू में इतनी बुरी स्थिति नहीं थी।’
तापमान बढ़ने के साथ ही फसलों के दाम भी बढ़ रहे हैं। पिछले एक महीने में मक्के के दाम 45 फीसदी, गेंहू के 36 फीसदी और सोयाबीन के दाम 17 फीसदी बढ़ गए हैं।

पांच साल पहले कहा गया था कि खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों की वजह से दुनिया में साढ़े सात करोड़ भूखे लोग बढ़े थे और 30 से ज्यादा देशों में दंगे हुए थे। खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों को ही दो साल पहले अरब क्रांति का एक कारण बताया गया था। हालांकि कुछ विश्लेषक कहते हैं कि खाद्य संकट होने की संभावना नहीं है।

Recommended

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय
ज्योतिष समाधान

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

जूम एयरवेज को मिला अंतरिम समझौता पत्र

भारतीय विमान पत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने मेरठ से हवाई उड़ान के लिए जूम एयरवेज को अंतरिम समझौता पत्र दे दिया है। इस पत्र में जारी शर्तों पर जूम एयरवेज को पांच दिन के भीतर जवाब देना है।

13 मार्च 2019

विज्ञापन

फिरोजाबाद में एक दिन के पीएम बनने पर लोगों ने रखी अपनी राय, कहा इस मुद्दे पर करेंगे वोट

अमर उजाला का चुनावी फिरोजाबाद पहुंचा। जहां पर लोगों ने एक दिन के पीएम बनने पर कहा शिक्षा और स्वास्थय पर करेंगे काम ।

13 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree