विज्ञापन

ब्रिटेन में मीडिया और नेताओं में मधुर संबंध

लंदन/एजेंसी Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
sweet-ties-in-the-media-and-politicians-in-the-UK
विज्ञापन
ख़बर सुनें
यह बात थोड़ी अटपटी, लेकिन दिलचस्प जरूर है। फोन हैकिंग विवाद के सामने आने के बाद ब्रिटेन में कराई गई एक सरकारी जांच में मीडिया और सियासतदानों के बीच के मधुर संबंधों की बात सामने आई है।
विज्ञापन
रूपर्ट मुर्डोक के प्रकाशन ‘न्यूज ऑफ द वल्ड’ से जुड़े फोन हैकिंग स्कैंडल के सामने आने के बाद जुलाई, 2011 में जांच की शुरुआत की गई थी। जांच का सीधा प्रसारण किया गया और इसने दर्शकों का ध्यान भी खींचा।

मर्डोक के स्वामित्व वाली कंपनी न्यूज इंटरनेशनल के तहत प्रकाशनों के पत्रकारों पर आरोप लगा था कि उन्होंने सनसनीखेज खबरों की चाहत में फोन हैक कराए और पुलिस व अधिकारियों को घूस दिए।

न्यायमूर्ति लॉर्ड लेनेसन के नेतृत्व में इस मामले की जांच का एलान बीते साल प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने किया था। कैमरन ने जांच समिति को बताया कि ब्रिटेन में नेताओं और मीडिया के बीच रिश्ता बीते दो दशकों के दौरान गलते ढर्रे पर चला गया है और इसे फिर से सही रास्ते पर लाने की जरूरत है।

जांच के बाद सामने आए मुद्दों के बारे में पूछे जाने पर भारतीय मूल के उद्योगपति लॉर्ड स्वराज पॉल ने कहा कि मुख्य मुद्दा मधुर संबंधों का ही रहा है। पॉल ने कहा कि प्रधानमंत्री कैमरन को दो बार इस बात से इनकार करना पड़ा कि फोन हैकिंग मामले से उनका कोई लेना-देना है। किसी ने उन पर आरोप नहीं लगाया था। शिक्षा मंत्री माइकल गोव का मानना है कि इस जांच का पहले ही अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर काफी असर पड़ चुका है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

गर्भवती को जलाकर मार डाला, कोर्ट ने पति, सास-ससुर को सुनाई बड़ी सजा

दहेज के लिए गर्भवती को जलाकर हत्या करने के मामले में फर्रुखाबाद जिला जज अरुण कुमार मिश्र ने पति, सास, ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

26 सितंबर BIG NEWS: सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फैसलों की हैट्रिक, साथ ही दिनभर की बड़ी खबरें

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फैसलों की हैट्रिक, हिमाचल प्रदेश में तीन दिन में 350 करोड़ का नुकसान साथ ही दिनभर की बड़ी खबरें

26 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree