पाक चीफ जस्टिस के कोर्ट में बेटे का केस

इसलामाबाद/एजेंसी Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
son-case-in-court-of-Pakistan-Chief-Justice
ख़बर सुनें
पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश इफ्तिखार चौधरी ने अपने बेटे अरसलान इफ्तिखार पर भ्रष्टाचार के आरोपों का स्वतः संज्ञान लेते हुए उनके खिलाफ सुनवाई शुरू कर दी है। न्यायमूर्ति चौधरी की अध्यक्षता में तीन न्यायाधीशों की खंडपीठ ने बुधवार को इस मामले की सुनवाई शुरू की।
पाकिस्तानी मीडिया की खबरों के मुताबिक अरसलान और रियल स्टेल उद्यमी मलिक रियाज हुसैन के बीच गठजोड़ है। हुसैन पाकिस्तान के बड़े रईसों में गिने जाते हैं। खबरों में कहा गया था कि हुसैन ने सुप्रीम कोर्ट में चल रहे अपने कुछ मामलों को प्रभावित करने के मकसद से अरसलान को करीब 40 करोड़ रुपये दिए और उन्हें विदेश दौरा भी कराया।

मीडिया की खबरों पर स्वतऱ् संज्ञान लेते हुए पाकिस्तान की सबसे बड़ी अदालत ने सुनवाई करने का फैसला किया। अटॉर्नी जनरल इरफान कादिर ने इस पर आपत्ति जताई कि सुनवाई करने वाली खंडपीठ में मुख्य न्यायाधीश खुद शामिल हैं और यह हितों के टकराव का मामला बनता है। इस पर इफ्तिखार चौधरी ने कहा कि उनके बेटे अथवा जिसने भी उच्चतम न्यायालय की प्रतिष्ठा को प्रभावित किया है, उसे छोड़ा नहीं जाएगा।

इफ्तिखार चौधरी ने कहा कि अगर उनके बेटे के खिलाफ आरोप साबित होता है तो उसे कानून के मुताबिक दंडित किया जाएगा। मुख्य न्यायाधीश ने आदेश दिया कि इस मामले से जुड़े सभी पक्ष बृहस्पतिवार तक अदालत के समक्ष सबूत पेश करें। सुप्रीम कोर्ट की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उसने हुसैन और अरसलान के बीच गठजोड़ से जुड़ी खबरें कुछ चैनलों पर आने के बाद इस मामले को संज्ञान में लिया है।

सुनवाई से पहले अरसलान ने संवाददाताओं से कहा कि इस मामले में वह निर्दोष हैं और मुख्य न्यायाधीश (उनके पिता) ने उनसे मामले के निपटारे तक घर नहीं लौटने के लिए कहा था। हुसैन अदालत में पेश नहीं हुआ। उनके एक सहयोगी ने बताया कि हुसैन ब्रिटेन में अपना उपचार करा रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट में हुसैन के खिलाफ कई मामले चल रहे हैं। ये मामले उन लोगों ने दायर किए हैं जिनका आरोप है कि हुसैन ने उनकी जमीन हड़प ली और बहरिया शहर में मिला लिया। हुसैन सत्तारूढ़ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के करीबियों में गिने जाते हैं। मीडिया में उनके और अरसलान के संबंधों के खुलासे के समय को लेकर भी चर्चा है।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

घाटी में तैनात हुए आतंकियों के यमराज, देखिए कैसे होती है इनकी ट्रेनिंग

जम्मी कश्मीर में आतंकियों से निपटने के लिए अब एनएसजी कमांडो की तैनात कर दी गई है। आतंकियों के खिलाफ नए सिरे से ऑपरेशन को शुरू करने के लिए गृह मंत्रालय ने ये कदम उठाया गया है।

21 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen