बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

आठ पूर्व चेतावनी डिटेक्टर लगाएगा श्रीलंका

कोलंबो/एजेंसी Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Sri-Lanka-will-set-up-eight-early-warning-detector

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
कुडनकुलम न्यूक्लियर पावर स्टेशन के क्रियाशील होने के साथ ही श्रीलंका का परमाणु ऊर्जा प्राधिकरण (एईए) किसी भी संभावित आपदा से निबटने की योजना बना रहा है। इसके लिए तटीय क्षेत्रों में प्राधिकरण द्वारा आठ अर्ली वार्निंग डिटेक्टर (समय पूर्व चेतावनी डिटेक्टर) स्थापित करने की योजना है।
विज्ञापन


एईए के अध्यक्ष आर एल विजेवर्द्धने ने बताया, ‘तमिलनाडु में कुडनकुलम स्टेशन को अगले दो महीने में क्रियाशील होने के लिए आधिकारिक अनुमोदन मिल जाएगा। यह हमसे करीब 200 किमी की दूरी पर है। ऐसे में अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) की मदद से तटीय क्षेत्रों में आठ अर्ली वार्निंग डिटेक्टर लगाए जाएंगे।’


ये डिटेक्टर पश्चिमी प्रांत में कोलंबो और कलपीतिया में, उत्तर में तलाईमन्नार और देल्फत, पूर्व में त्रिनकोमाली और मध्य में कनाडी में स्थापित किए जाएंगे। दो महीने में सक्रिय होने के बाद इनका संचालन एईए कार्यालयों से होगा। उन्होंने कहा कि इससे हम जनता को खतरे के बारे में पहले ही आगाह करने में सक्षम हो जाएंगे।

विजेवर्द्धने ने कहा कि 31 देशों में 450 न्यूक्लियर पावर स्टेशन हैं और पिछले 30 वर्षों में केवल दो आपदा की घटनाएं सामने आई हैं। अधिकारियों के मुताबिक कुडनकुलम के काफी निकट होने के कारण श्रीलंका ने संभावित आपदा के मामले पर आईएईए का ध्यान अपनी ओर खींचा है। हालांकि आईएईए ने मार्च में स्पष्ट कर दिया था कि श्रीलंका ने किसी भी भारतीय न्यूक्लियर पावर प्लांट से संबंधित कोई विरोध या चिंता दर्ज नहीं कराई है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us