विज्ञापन

समझबूझ से करें सोशल साइट्स पर शब्दों का प्रयोग

वाशिंगटन/एजेंसी Updated Sun, 27 May 2012 12:00 PM IST
By-understanding-the-social-sites-use-the-words
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अगर आप सोशल नेटवर्किंग साइट पर लगातार एक्टिव रहते हैं तो अगली बार जब भी कोई शब्द लिखें तो उस पर विचार जरूर कर लें। हो सकता है कि अमेरिकी खुफिया एजेंसियां उस शब्द का कुछ अलग ही मतलब निकाल लें। अमेरिकी एजेंसियां सोशल साइट्स पर ‘क्लाउड’ ‘टीम’ और ‘मैक्सिको’ जैसे शब्दों के जरिए देश के सामने आने वाले खतरों का पता लगाने और उनकी काट ढूंढने का काम कर रही हैं।
विज्ञापन
डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका के गृह मंत्रालय ने हाल ही में सूचना के अधिकार के तहत इन शब्दों की फेहरिस्त जारी की। इस सूची में ‘अटैक’, ‘अलकायदा’ टेररिज्म और डर्टी बम जैसे शब्द भी शामिल हैं। आरटीआई के तहत यह बात सामने आई है कि किस प्रकार विशेषज्ञ सोशल नेटवर्किंग साइट्स और मीडिया संस्थानों की निगरानी करते हैं, जिनकी टिप्पणियां सरकार पर उल्टा असर करती हैं।

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि उनका मकसद सरकार के खिलाफ की जाने वाली अपमानजनक टिप्पणियों को लेकर इंटरनेट की निगरानी करना नहीं, बल्कि भविष्य में किसी भी तरह के खतरे के प्रति सजग रहना है। आतंकी हमलों को देखते हुए विशेषज्ञों को इनकी निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। इन शब्दों की सूची को इलेक्ट्रानिक प्राइवेसी इंफारमेशन सेंटर द्वारा पोस्ट की गई है। मालूम हो कि यह सेंटर एक प्राइवेसी निगरानी संस्था है। इसी ने सूचना अधिकार के तहत यह जानकारी मांगी है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

गर्भवती को जलाकर मार डाला, कोर्ट ने पति, सास-ससुर को सुनाई बड़ी सजा

दहेज के लिए गर्भवती को जलाकर हत्या करने के मामले में फर्रुखाबाद जिला जज अरुण कुमार मिश्र ने पति, सास, ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

FB LIVE : एशिया कप में भारत-बांग्लादेश के बीच महाटक्कर, कौन किस पर भारी?

टीम इंडिया शुक्रवार को सुपर चार के अपने पहले मुकाबले में उलटफेर में माहिर बांग्लादेश के खिलाफ उतरेगी। देखिए इसी पर अमर उजाला डॉट कॉम पर FB LIVE

21 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree