ये रिश्ता क्या कहलाता है

- अनुराधा गोयल Updated Mon, 27 Aug 2012 12:00 PM IST
learn about relationship status
ख़बर सुनें
45 साल की शालिनी (काल्पनिक नाम) अपने 22 साल के बेटे और 17 साल की बेटी के साथ अलग रहती थी। शालिनी का पति से तलाक हो चुका था। शालिनी को देखकर ऐसा लगता था जैसे वो अपने जीवन को ढो रही है। अकसर उसके घर में सन्नाटा पसरा रहता है। कुछ समय बाद शालिनी के हाव-भाव, उसका रहन-सहन, सब कुछ बदल गया। इन सबका कारण था शालिनी के घर में 23 साल के एक खूबसूरत नवयुवक मनोज (काल्पनिक नाम) का पेइंग गेस्ट बनकर आना।
अब शालिनी पहले से कहीं अधिक बन-ठनकर रहती है और उदासी वाले इस चेहरे पर खुशी झलकती है। शालिनी और मनोज की उम्र में लगभग 22 साल का फर्क है। लेकिन आप जानना नहीं चाहेंगे शालिनी में परिवर्तन का कारण मनोज कैसे है? दरअसल, शालिनी मनोज को पसंद करने लगी है और दोनों के बीच एक चाहा-अनचाहा ऐसा रिश्ता डवलप हो गया है जिसे समाज अवैध और बेमेल संबंधों के नाम से जानता है।


यह कहानी सिर्फ शालिनी की ही नहीं है। आज के दौर में आप अपने आसपास आसानी से बेमेल रिश्तों को पनपते देख सकते हैं। हालांकि कम उम्र की लड़कियों का मैच्योर और बड़ी उम्र के पुरूषों की और आकर्षित होने का ट्रेंड नया नहीं है लेकिन इस ट्रेंड में एक खासा बदलाव आया है और वह है उम्रदराज महिलाओं का अपने से छोटी उम्र के लड़कों से रिश्ते बनाना। आइए इन रिश्तों पर डालते हैं एक नजर-



सवाल- आपकी नजर में बेमेल रिश्ता या अफेयर कहां तक सही है?

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Other Archives

अवैध कट

13 नवंबर 2017

Related Videos

CBSE 12वीं नतीजों में यूपी की बेटियों का दबदबा समेत शाम की 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला टीवी पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी से जुड़ी खबरें। देखिए LIVE BULLETINS - सुबह 7 बजे, सुबह 9 बजे, 11 बजे, दोपहर 1 बजे, दोपहर 3 बजे, शाम 5 बजे और शाम 7 बजे।

26 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen