विज्ञापन

राजनीतिक विवादों से ओलंपिक का बहिष्कार

धर्मेंद्र आर्य Updated Tue, 17 Jul 2012 12:00 PM IST
political disputes  boycott olympics
ख़बर सुनें
ओलंपिक खेलों की ख्याति के बावजूद कई बार ऐसा भी हुआ कि खिलाड़ियों को इन खेलों से दूर रहना पड़ा। आयरलैंड ने 1936 में बर्लिन ओलंपिक खेलों का बहिष्कार कर दिया। इसके पीछे वजह यह थी कि अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने आयरलैंड को स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में ओलंपिक में भाग लेने पर मना कर दिया था। वहीं, 1956 के मेलबर्न ओलंपिक खेलों से स्विट्जरलैंड, नीदरलैंड और स्पेन ने अपने खिलाड़ियों को दूर रखा। इन देशों ने हंगरी में हुए विद्रोह में सोवियत संघ के अनुचित हस्तक्षेप के विरोध में मेलबर्न ओलंपिक में भाग नहीं लिया था। इनके अलावा स्वेज नहर विवाद के चलते मिस्र, कंबोडिया, इराक और लेबनान ने भी अपनी टीमें मेलबर्न नहीं भेजी।
विज्ञापन
विज्ञापन
आईओसी ने 1964 में दक्षिण अफ्रीका पर रंगभेद के कारण प्रतिबंध लगा दिया। वहीं राजनीतिक विवादों के चलते चीन और ताइवान ने भी खेलों का बहिष्कार किया था। शीत युद्ध के दौर में कई देशों ने 1980 और 1984 में ओलंपिक खेलों से अपने को दूर रखा। सोवियत संघ के अफगानिस्तान में लड़ाई करने के विरोध 65 देशों ने मास्को ओलंपिक का विरोध किया था। जवाब में सोवियत संघ और 14 देशों ने 1984 में हुए लॉस एंजिल्स ओलंपिक का बहिष्कार किया था। इरान और लीबिया ने भी राजनीतिक कारणों से इन खेलों का बहिष्कार किया। इरान एकमात्र ऐसा देश है जिसने 1980 और 1984 दोनों ओलंपिक खेलों में भाग नहीं लिया था।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

पहले करेंगे मतदान, बाद में दूसरा काम 

अमर उजाला के अभियान अपराजिता के तहत मतदाता जागरूकता गोष्ठी

26 मार्च 2019

विज्ञापन

फिरोजाबाद में एक दिन के पीएम बनने पर लोगों ने रखी अपनी राय, कहा इस मुद्दे पर करेंगे वोट

अमर उजाला का चुनावी फिरोजाबाद पहुंचा। जहां पर लोगों ने एक दिन के पीएम बनने पर कहा शिक्षा और स्वास्थय पर करेंगे काम ।

13 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election