विज्ञापन

देर हुई तो क्या होगा

विनीता वशिष्ठ Updated Fri, 29 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
if monsoon delays then what will happen
ख़बर सुनें
किसान आसमान ताक रहे हैं। व्यापारी दिन गिन रहे हैं और आम आदमी पसीना सुखा रहा है। अगर मानसून में देर हुई तो भारतीय अर्थव्यवस्था पर असर पड़ना लाजमी है। एक एक दिन की देरी बाजार की रुख बदल सकती है। इस मौसम में आमतौर पर धान, गन्ना, कपास, दाल और तिलहन की फसलें उगाई जाती हैं। मानसून में देर और कम बरसात के कारण इन फसलों के उत्पादन पर बुरा असर पड़ेगा। उत्पादम कम हुआ तो अगर और देर हुई तो सीधा असर उत्पादन पर पड़ेगा और उसका असर जेब पर पड़ना ही है।
विज्ञापन
कैसे पड़ेगा असर


दरअसल दलहन (दालें और सोयाबीन) की बुवाई मानसून में ही होती है। दूसरी खास बात जब लगातार बारिश होती है तो ताजा सब्जियों की किल्लत हो जाती है और ऐसे में दाल और सोयाबीन की मांग बढ़ जाती है। मानसून की देर के चलते बुवाई समय पर न होने पर दालों की आपूर्ति बाधित होगी। बढ़ती मांग के बीच आपूर्ति कम होने पर दालों के दाम आसमान छुएंगे। ऐसे में आपकी और हमारी जेब पर डाका पड़ना लाजमी है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us