विज्ञापन

भारत में मानसूनी चक्र

विनीता वशिष्ठ Updated Fri, 29 Jun 2012 12:00 PM IST
cycle of monsoon in india
ख़बर सुनें
भारतीय परिदृश्य की बात की जाए तो यहां मानसून चार माह जून से सितंबर तक सक्रिय रहता है। जब सूर्य कर्क रेखा के ऊपर होता है तो भारतीय भू-भाग की हवा गर्म होकर ऊपर की ओर उठकर बाहर की ओर बहने लगती हैं। इससे पूरा क्षेत्र कम दबाव वाला विशाल क्षेत्र बन जाता है। यह क्षेत्र उच्च दबाव क्षेत्र से हवाओं को आमंत्रित करता है। इन चार माह में दिनों भारतीय उपमहाद्वीप के तीन ओर से घिरे समुद्र में उच्च दबाव का क्षेत्र होता है क्योंकि समुद्र धरती की अपेक्षा कम ऊष्मता लिए है। ऐसे में उच्च दबाव वाले इलाके से से कम दबाव वाले इलाके की ओर ये हवाएं बहने लगती हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
बारिश तेरे कितने रूप


मानसून के चलते तीन प्रकार की बरसात होती है। चक्रवातीय, पर्वतीय तथा संवहनीय। आर्द्र मानसून हवाएं जब पर्वत से टकराती है तो ऊपर उठ जाती हैं, परिणामस्वरूप पर्याप्त बारिश होती है। ज्यों-ज्यों उंचाई बढ़ती है तापमान कम होने लगता है। 165 मीटर ऊपर जाने पर एक डिग्री सेंटीग्रेट तापमान कम हो जाता है। हवाएं जब ऊपर उठती हैं तो इसमें मौजूद वाष्पकण ठंडे होकर पानी की बूंदों में बदल जाते है। जब पानी की बूंद भारी होने लगती है तो यह धरती पर गिरती है। इसे हम बारिश कहते हैं। चूंकि मानसूनी हवा में वाष्पकण भरपूर मात्रा में होते हैं इसलिए बारिश भी जमकर होती है।

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

कुंभ 2019: आशुतोषानंद गिरि बने महामंडलेश्वर, निरंजनी अखाड़े में चादर ओढ़ाकर दी गई पदवी

पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी की ओर से प्रयाग कुंभ पर्व के दौरान रविवार को महामंडलेश्वर पद पर पट्टाभिषेक की शुरुआत हुई।

14 जनवरी 2019

विज्ञापन

प्लेन में ‘डायमंड’ लगे देखकर चौंके लोग, जानिए असली हकीकत

डायमंड लगे  इस प्लेन को देखकर लोग चौंक गए हैं। सोशल मीडिया पर तरह तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, क्या है इसकी हकीकत जानिए

7 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree