विज्ञापन

डॉल मेकिंग

विनीता वशिष्ठ Updated Wed, 06 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
doll making
ख़बर सुनें
बचपन में तो गुड्डे गुड़िया बनाई ही जाती हैं लेकिन इसका शौक क़ई लोगो को ताउम्र रहता है। भारत ही नहीं विदेशों में भी डॉल मेकिंग एक बड़ी हॉबी के रूप में विकसित हो रहा है। डॉल मेकिंग कोर्स में पेपर फोल्डिंग और मेटिरियल डिजाइन से लेकर हेयर डिजाइनिंग भी शामिल होती है। राजस्थानी गुड़िया से लेकर क्रिश्चिय डॉल भी इस कोर्स में बनानी सिखाई जाती हैं। डॉल मेकिंग कोर्स की अवधि एक माह से दो माह के बीच होती है।
विज्ञापन



संस्थान
रियल एक्ट
शॉप नंबर -8, संगम विहार, दिल्ली- 110062



द आर्ट स्टेशन
सी -62, सेंट्रल मार्केट, लाजपत नगर -2, दिल्ली - 110024



खुराना हॉबी क्लासेज
E-179, क़ालकाजी , दिल्ली



क़ेव आर्ट क्लासेज
पी 119, चितरंजन पार्क, दिल्ली



क्रिएटिव आर्ट
N-16-C, साकेत मालविय नगर, दिल्ली



पारुल क्राफ्ट क्लासेज
4-1/4,गोपीनाथ बाजार, दिल्ली कंटोनमेंट, दिल्ली
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us