लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   News Archives ›   Other Archives ›   doll making

डॉल मेकिंग

विनीता वशिष्ठ Updated Wed, 06 Jun 2012 12:00 PM IST
doll making
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बचपन में तो गुड्डे गुड़िया बनाई ही जाती हैं लेकिन इसका शौक क़ई लोगो को ताउम्र रहता है। भारत ही नहीं विदेशों में भी डॉल मेकिंग एक बड़ी हॉबी के रूप में विकसित हो रहा है। डॉल मेकिंग कोर्स में पेपर फोल्डिंग और मेटिरियल डिजाइन से लेकर हेयर डिजाइनिंग भी शामिल होती है। राजस्थानी गुड़िया से लेकर क्रिश्चिय डॉल भी इस कोर्स में बनानी सिखाई जाती हैं। डॉल मेकिंग कोर्स की अवधि एक माह से दो माह के बीच होती है।




संस्थान



रियल एक्ट
शॉप नंबर -8, संगम विहार, दिल्ली- 110062



द आर्ट स्टेशन
सी -62, सेंट्रल मार्केट, लाजपत नगर -2, दिल्ली - 110024



खुराना हॉबी क्लासेज
E-179, क़ालकाजी , दिल्ली



क़ेव आर्ट क्लासेज
पी 119, चितरंजन पार्क, दिल्ली



क्रिएटिव आर्ट
N-16-C, साकेत मालविय नगर, दिल्ली



पारुल क्राफ्ट क्लासेज
4-1/4,गोपीनाथ बाजार, दिल्ली कंटोनमेंट, दिल्ली

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00