ताकि किसान और जमीन खुशहाल रहें

विनीता वशिष्ठ Updated Thu, 03 May 2012 12:00 PM IST
so  farmers and land Be happy
ख़बर सुनें
एक पुराना नुस्खा है, जब समस्या बहुत बढ़ जाए तो मूल की ओर लौटो। साठ के दशक में हरित क्रांति के नारे से उत्साहित होकर ज्यादा से ज्यादा अन्न उपजाने की होड़ चली। इस होड़ में किसान ने रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों का अंधाधुंध इस्तेमाल किया। इससे फसल तो बढ़ी लेकिन जमीन चौपट हो गई और किसान की किस्मत उससे रूठ गई। बंजर जमीन, चौपट फसलचक्र और बढ़ता कर्ज। ऐसे में किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो गया।
इन घटनाओं ने संकेत दिया कि अब ऑरगेनिक खेती की ओर लौटने का समय आ गया है। भारत में पहले भी यही खेती दस्तूर में थी। अब फिर से देश के अधिकतर राज्य इस दिशा में कदम उठा चुके हैं और किसान की हालत पहले से सुधरी है। देखा जाए तो यह शुभ संकेत है, हम सबके लिए।


क्या आपको लगता है कि कम अन्न उपजाने के बावजूद ऑरगेनिक खेती किसान और जमीन के हित में है। क्या ऑरगेनिक खेती को बढ़ावा देने से किसान का भला होगा?

Spotlight

Related Videos

सावधान! क्या आपका बच्चा भी खेलता है ये गेम

सोशल मीडिया पर एक डांस चैलेंज काफी वायरल हो रहा है जो दुनियाभर के बच्चों के लिए खतरा बन गया है। इस चैलेंज को जूम चैलेंज का नाम दिया गया है।

23 जुलाई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen