उपहार और मौके की नजाकत समझें

विनीता वशिष्ठ Updated Tue, 01 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
The fragility of the gift and the opportunity to understand

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
हर मौका उपहार देने का मौका है बर्शते उपहार मौके की नजाकत समझे। कुछ मौकों जैसे जन्मदिन और शादी ब्याह में सफेद फूल, काले कपड़े और जानवर की खाल से बने उपहार में पसंद नहीं किए जाते। किसी ने आपको घर बुलाया हो तो खाली जाने की बजाय मिठाई ले जाएं वरना मेजबान की भृकुटि तन जाएंगी।
विज्ञापन



भारतीयों को पसंद ना आने वाली इन बातों में आप ऐसी कौन सी बात जोड़ना चाहेंगे, जो पसंद नहीं की जाती?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us