विज्ञापन
विज्ञापन

महिलाओं में डिप्रेशन की ऐसे करें पहचान

Priyanka Padlikarप्रियंका पाडलीकर Updated Wed, 01 Aug 2012 03:33 PM IST
how to detect depression in women
ख़बर सुनें
क्या आपकी मोहतरमा का मूड इतना बदलता है कि वह क्या चाहती हैं यह आपको समझ ही नहीं आता? या फिर इन दिनों आपकी मां किसी भी चीज में रुचि नहीं लेती? चाहरदीवारी को घर में बदल देने वाली महिलाएं घर की खुशहाली के लिए हर संभव प्रयास करती हैं लेकिन वह कब अवसाद में होती हैं, यह हमें पता ही नहीं पड़ पाता।
विज्ञापन
विज्ञापन
महिलाओं में डिप्रेशन के लक्षण पुरुषों की अपेक्षा बहुत अलग होते हैं। ऐसे में इन लक्षणों को सही समय पर भांपना बहुत जरूरी है जिससे डिप्रेशन को खत्म करने में आसानी मिले। अगर आप भी जानना चाहते हैं कि कोई महिला अवसाद में तो नहीं है, तो उसके व्यवहार में आए इन बदलावों को समझने की कोशिश करें।

मूड में परिवर्तन

अवसाद में महिलाओं के साथ अक्सर मूड स्विंग की समस्या होती है यानी बहुत जल्दी-जल्दी उनका मूड बदल जाता है। कई बार मूड इस कदर बदलता है कि उन्हें घबराहट के दौरे तक पड़ने शुरू हो जाते हैं। इस स्थिति में अवसाद की वजह कोई विशेष परिस्थिति, हार्मोन की गड़बड़ी या फिर एलर्जी हो सकती है।

अरुचि

अवसाद की स्थिति में कई बार हर बात से रुचि खत्म होने लगता है। महिलाएं अपनी दिनचर्या या आस-पास के लोगों में रुचि कम कर देती हैं। कई बार अवसाद की वजह से वे किसी भी बात पर ध्यान नहीं केंद्रित कर पातीं और बात-बात पर अपना आपा खोने लगती हैं।

डाइट में परिवर्तन

कई बार अवसाद की स्थिति में महिलाओं की डाइट प्रभावित होती है। अच्छा महसूस करने के लिए वे बहुत अधिक खाती हैं या फिर अवसाद में दुखी होकर भोजन ही नहीं करतीं। दोनों परिस्थितियों में अवसाद का प्रभाव डाइट पर हो सकता है।

नींद

अवसाद का हमारी नींद से बहुत गहरा संबंध है। खासतौर पर महिलाओं पर अवसाद के दो तरह से प्रभाव पड़ते हैं, या तो उन्हें नींद नहीं आती या फिर नींद बहुत अधिक आती है। तो अगर सोने में उन्हें इस तरह की समस्या हो तो इसे अवसाद के लक्षण मान सकते हैं।

थकान लगना

दिन भर घर-बाहर की भागदौड़ में मुस्कराने वाली आपके घर की मिसेज परफेक्ट हमेशा थकीं-थकीं रहें तो समझिए कि उनके साथ जरूर कोई दिक्कत है। हर समय थकान लगना भी अवसाद का एक गंभीर लक्षण हो सकता है।

आत्मविश्वास घटना

अवसाद से घिरी महिलाओं का आत्म विश्वास बहुत कम हो जाता है और वे अक्सर अपनी ही आलोचना करती हैं। बीते समय में जो हुआ अक्सर उन बातों को याद करके खुद को कोसती हैं। उन्हें हमदर्दी की तलाश होती है जिनसे वे अपने शकोसुबह साझा कर सकें।

आत्महत्या का विचार

अवसाद जब बहुत अधिक प्रभावित कर देता है तो मन में आत्महत्या तक करने का विचार आ सकता है। उन्हें अपने जीवन का कोई उद्देश्य नहीं दिखता। इस स्तर तक उनका अवसाद पहुंचे इससे पहले उन्हें चिकित्सा की बहुत जरूरत है।

Recommended

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से
Election 2019

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर
Election 2019

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

अस्पताल में मरीज ने तोड़ा दम, इमरजेंसी गेट पर शव रखकर हंगामा

जिला अस्पताल में आयुष्मान वार्ड में उपचार करा रहे मरीज की मौत हो गई। परिजन इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। कुछ देर में इमरजेंसी गेट पर शव रखकर रास्ता बंद कर दिया।

21 मई 2019

विज्ञापन

देखिए काउंटिग में कानपुर सीट का सियासी समीकरण, कौन हार रहा और किसके हाथ लग रही बाजी

चुनाव रुझानों से गदगद भाजपा अभी से खुशियां मना रही है। आपको दिखाते हैं कानपुर सीट का हाल क्या कह रहे हैं यहां की दो सीटों पर चुनावी नतीजे। अमर उजाला संवाददाता प्रवीण पाण्डेय ने बात की भाजपा एमएलसी अरुण पाठक से।

23 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election