विज्ञापन

26/11: भारत ने पकड़ा पाकिस्तान का गिरेबान

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Thu, 28 Jun 2012 12:00 PM IST
26/11-terrorists-India-held-Pakistan-collar
ख़बर सुनें
भारत ने 26/11 आतंकी हमले में अब सीधे-सीधे पाकिस्तान की गिरेबान पकड़ ली है। गृह मंत्री पी चिदंबरम ने पाकिस्तान पर इस सिलसिले में सबसे करारा प्रहार करते हुए कहा कि मुंबई हमले की साजिश रचने ही नहीं उसे अंजाम देने वाले आतंकियों को पाकिस्तान के सरकारी नुमाइंदों का समर्थन हासिल था।
विज्ञापन
विज्ञापन
मुंबई हमले के आतंकी अबू जुंदाल की गिरफ्तारी और उसके खुलासे के आधार पर गृहमंत्री ने पाकिस्तान कि गिरेबान पकड़ते हुए कहा कि अभी भी इस हमले के कई गुनहगार पाकिस्तानी सत्ता तंत्र की शरण में हैं। चिदंबरम ने यह भी ऐलान किया कि इन गुनहगारों को भारत जल्द ही यहां लाकर सजा दिलवाएगा।

अबू जुंदाल की लगातार हो रही पूछताछ में हुए सनसनीखेज खुलासे पर चिदंबरम ने कहा कि इस आतंकी ने भारत के उन दलीलों को पुख्ता कर दिया है जिन्हें पाकिस्तान नकारता आ रहा है। गृहमंत्री के मुताबिक अब भारत के पास सटीक सबूत हैं कि 26/11 हमले में पाक सरकार के नुमाइंदों की भागेदारी है। दिल्ली में जुंदाल के खुलासे से मिले सबूतों को आधार बनाते हुए चिदंबरम ने तिरुअंनतपुरम में कहा कि जुंदाल से पूछताछ में सामने आए तथ्यों से साफ है कि पाकिस्तानी सरकार से जुड़े लोग इस हमले में शामिल हैं।

चिदंबरम ने कहा कि जब वह स्टेट एक्टर्स की बात करते हैं तो इसका यह मतलब नहीं कि वह वहां के किसी खास महकमे की ओर इशारा कर रहे हैं। लेकिन इसमें अब कोई शक नहीं कि मुंबई के कत्लेआम को पाकिस्तानी स्टेट या उनके नुमाइंदों का पूरा समर्थन था जिसमें 166 लोगों की जान गई।

जुंदाल के बयानों के बारे में बताते हुए गृहमंत्री ने कहा कि उसने पुष्टि कर दी है कि 26/11 के हमले के दौरान वह कराची स्थित कंट्रोल रुम में मौजूद था। जुंदाल ने भारतीय एजेंसियों के उस शक को यकीन में बदल दिया है कि इस हमले के पीछे एक संगठित साजिश थी जिसमें वहां के सरकारी नुमाइंदे शामिल थे। अब पाकिस्तान की इस दलील का कोई मतलब नहीं कि 26/11 की साजिश में सरकारी लोगों का हाथ नहीं था।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने अपने बयान में कहा था कि 26/11 हमले में गैर सरकारी लोग यानि नॉन स्टेट प्लेयर्स शामिल हो सकते हैं लेकिन उनमें सरकारी नुमाइदों की कोई भागेदारी नहीं। पाकिस्तान को आड़े हाथों लेते हुए चिदंबरम ने कहा कि वह देश हमेशा अपने वादे से मुकरता रहा है। यह सिर्फ वहां के सरकारी बयानों में है कि वह मुंबई हमले के दोषियों को सजा देंगे। अब यह दबाव भारत पर नहीं बल्कि पाकिस्तान पर है कि वह अपने किए हुए वादों पर अमल करे।

चिदंबरम ने कहा कि भारतीय एजेंसियां जुंदाल के पीछे एक साल से लगी थी। पूरे ऑपरेशन को गुप्त रखते हुए भारत जिस सफाई से इस अहम आरोपी को हासिल करने में कामयाब रही है दुनिया उसकी तारीफ कर रही है। इसके ठीक उलट पाकिस्तान की नीयत पर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं। पाकिस्तान हर बात से इनकार करता रहा है। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के सवाल पर भी पाक नजरें फेर लेता है जबकि भारत कई बार उसका पता और ठिकाना बता चुका है।

गृहमंत्री ने खुलासा किया कि मंगलवार को पाक आंतरिक सुरक्षा मंत्री रहमान मलिक ने चिट्ठी लिख कर उनसे (चिदंबरम ) गुजारिश की है कि वह इस्लामाबाद के साथ जुंदाल की जानकारी साझा करें। चिदंबरम के मुताबिक वह ऐसा जरुर करेंगे लेकिन उससे पहले वह जोर देंगे कि पाकिस्तान अपना वादा निभाते हुए उन सभी दोषियों के आवाज के नमूने भारत को सौंपे जिनकी सूची उसे दी जा चुकी है। उन्होंने कहा कि अब देखना है कि पाकिस्तान की क्या प्रतिक्रिया होती है। जुंदाल ने हमले के दौरान कराची कंट्रोल रुम में मौजूद अहम लोगों के नाम भी बताए हैं जिनकी जानकारी वह पाकिस्तान को देंगे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

संसद में बुंदेलखंड मुद्दा जोरदार तरीके से उठाएं सांसद

बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर शहर के आल्हा चौक में 166 दिन से चल रहे अनशन में बैठे समाजसेवियों ने सोमवार को अलग राज्य की आवाज बुलंद की।

10 दिसंबर 2018

विज्ञापन

प्लेन में ‘डायमंड’ लगे देखकर चौंके लोग, जानिए असली हकीकत

डायमंड लगे  इस प्लेन को देखकर लोग चौंक गए हैं। सोशल मीडिया पर तरह तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, क्या है इसकी हकीकत जानिए

7 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election