विज्ञापन

इंतजार की घड़ियां खत्म, सुरजीत के परिवार में उल्लास

फिरोजपुर (पंजाब)/एजेंसी Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
the-wait-ends-surjeet-singh-family-rejoices
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पाकिस्तानी जेल में कैद सरबजीत सिंह की रिहाई पर पाकिस्तान का रुख बदलने के बाद उनके परिवार में जहां निराशा छाई हुई है, वहीं सुरजीत सिंह की रिहाई का समाचार सुनकर उनके परिवार में उल्लास का माहौल है। सुरजीत लाहौर की कोट लखपत जेल में तीन दशक से भी लम्बे समय से कैद है।
विज्ञापन
चंडीगढ़ से 280 किलोमीटर दूर पंजाब के फिरोजपुर जिले के फिड्डे गांव में सुरजीत की रिहाई की खबर सुनने के बाद से उनका परिवार खुशियां मना रहा है।

सुरजीत की रिहाई की खबर उनके परिवार को तब लगी, जब मंगलवार देर रात मीडियाकर्मियों ने उनके घर पर फोन किया। पाकिस्तान सरकार ने बुधवार तड़के एक बजे सुरजीत की रिहाई की घोषणा की थी जबकि पूर्व में सरबजीत की रिहाई की बात कही गई थी। पूर्व में कहा गया था कि राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के आदेश के बाद सरबजीत को रिहा किया जाएगा।

सुरजीत के बेटे कुलविंदर ने अपने गांव में मीडिया से कहा, 'हम लाहौर जेल से मेरे पिता की रिहाई का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने बरसों पहले अपनी सजा पूरी कर ली थी। अंतत: उन्हें रिहा किया जा रहा है। हम अटारी सीमा पर उल्लास के साथ उनका स्वागत करेंगे।'

कुलविंदर ने कहा, 'हम अपने पिता की रिहाई को लेकर बहुत खुश हैं लेकिन हम पाकिस्तान सरकार से सरबजीत सिंह की भी रिहाई की मांग करते हैं।'

उन्होंने बताया कि उनके पिता 1982 में गलती से सीमा पार कर पाकिस्तान पहुंच गए थे और उन्हें वहां गिरफ्तार कर लिया गया। उन पर जासूसी का आरोप लगाया गया और उन्हें जेल में डाल दिया गया।

सुरजीत की रिहाई की खबर से उनके गांव व आसपास के गांवों में खुशी का माहौल है और लोग बधाइयां देने के लिए उनके घर पहुंच रहे हैं। सुरजीत व सरबजीत दोनों कोट लखपत जेल में हैं।

'जियो न्यूज' के मुताबिक जरदारी के प्रवक्ता फरहतुल्लाह बाबर ने कहा, 'मुझे लगता है कि इस संबंध में कुछ गलतफहमी हुई है। सबसे पहले तो यह कि यह क्षमादान का मामला नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह मामला सरबजीत का नहीं है। यह सुच्चा सिंह सुपुत्र सुरजीत सिंह का मामला है। वर्ष 1989 में तत्कालीन प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की सलाह पर राष्ट्रपति गुलाम इस्हाक खान ने उसकी मौत की सजा कम कर उम्रकैद कर दी थी।'

भारत ने पिछले महीने पाकिस्तान के 80 वर्षीय कैदी खलील चिश्ती को स्वदेश भेजा था। चिश्ती हत्या के आरोप में दो दशक से अजमेर की जेल में कैद थे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

मरीजों को एक्सरे के लिए करना पड़ा घंटों इंतजार

डिजिटल एक्सरे मशीन खराब होने से सोमवार को मरीजों को एक्सरे के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा।

13 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree