विज्ञापन

नरेंद्र मोदी पर नीतीश के वार से भाजपा भड़की

पटना/एजेंसी Updated Tue, 19 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
nitish-remarks-creates-furor-in-BJP
ख़बर सुनें
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) द्वारा उदारवादी और सेकुलर छवि के प्रधानमंत्री होने से संबंधित बयान पर बिहार में राजनीति गरमा गई है। राजग में शामिल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता इस बयान पर धर्मनिरपेक्षता की परिभाषा बताने और बिना किसी का नाम लिए दोहरे चरित्र निभाने की बात कह रहे हैं।
विज्ञापन

इधर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो ने नीतीश के बयान को महज नाटक करार दिया है। उन्होंने नीतीश से पूछा है कि आखिर सेकुलर का परिभाषा क्या है, उसे वे स्पष्ट करें।
बिहार के मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री और भाजपा के नेता गिरिराज सिंह कहते हैं कि देश के अंदर दोहरे चरित्र के लोग राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा की भी संवैधानिक पद पर सेकुलर छवि के ही लोगों को बैठाने की नीति है। उन्होंने किसी का भी नाम लिए बिना कहा कि कहीं भी निगाहें और कहीं पर निशाना नहीं चलेगा।
देश में जनता सर्वोच्च है और वही सब कुछ तय करती है। वे कहते हैं कि यह सब बयान वोट की राजनीति है। वे कहते हैं कि प्रारम्भ से ही विपक्ष भाजपा को धर्म के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते रहे हैं परंतु देश की जनता ने भाजपा को केन्द्र की भी सता सौंपी थी।

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के विषय में पूछने पर वे कहते हैं कि वे न केवल धर्मनिरपेक्ष छवि के व्यक्ति है बल्कि उदारवादी और संवेदनशील भी हैं।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने एक अंग्रेजी अखबार को दिए गए साक्षात्कार में कहा है कि भाजपा को 2014 में होने वाले आम चुनावों में प्रधानमंत्री पद के लिए धर्मनिरपेक्ष छवि वाले उम्मीदवार को पेश करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बिहार में भाजपा और जद (यू) के बीच गठबंधन है। वे प्रधानमंत्री की दौड़ नहीं है और न ही इसकी लालसा है।

अपने साक्षात्कार में उन्होंने यह भी कहा है कि राजग का नेता ऐसा व्यक्ति बने जो बिहार जैसे अविकसित राज्यों को विकास में प्राथमिकता दे। प्रधानमंत्री पद के प्रत्याषी को बड़ा दल का होना चाहिए।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us