विज्ञापन

राष्ट्रपति चुनाव के लिए आने लगे हैं ‘धरतीपकड़’

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Tue, 19 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
more-candidates-nominate-for-presidential-elction
ख़बर सुनें
राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र भरना शुरू कर दिया है। अब तक तीन ‘धरतीपकड़’ उम्मीदवार अपने नामांकन पत्र भर चुके हैं। एक ने तो महाराष्ट्र से 50 एमएलए और एमएलसी को प्रस्तावक बनाने का भी दावा पेश किया है। इन नामांकनों के साथ ही राज्यसभा सचिवालय राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया में जुट गया है।
विज्ञापन

नामांकन पत्र जमा करवाने वाले दिल्ली, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के हैं। मध्य प्रदेश के ग्वालियर के आनंद सिंह कुशवाहा और दिल्ली के नांगलोई स्थिति कविता कालोनी निवासी ओमप्रकाश अग्रवाल ने पिछले हफ्ते ही नामांकन पत्र भर दिया था। उत्तर प्रदेश के वाराणसी के वरुणपुर कैंटोनमेंट निवासी नरेंद्र नाथ ने सोमवार को अपना नामांकन पत्र जमा कराया। उन्होंने महाराष्ट्र के 50 एमएलए और एमएलसी से प्रस्तावक के तौर पर हस्ताक्षर कराए हैं। अब दो जुलाई को नामांकन पत्रों की जांच होगी।
तमिलनाडु के धर्मपुरी निवासी एम. इलियासी भी सोमवार को अपना नामांकन पत्र जमा करने आए थे, लेकिन उन्होंने मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज होने का सुबूत जमा नहीं कराया। इससे उनका नामांकन पत्र पहले ही चरण में रद्द कर दिया गया।
गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बरेली निवासी सरदार जोगिंदर सिंह उर्फ धरतीपकड़ राष्ट्रपति के लगभग हर चुनाव में मैदान में कूदते थे। इस तरह के ‘धरतीपकड़ों’ पर लगाम कसने के लिए राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए 15 हजार रुपये की जमानत राशि जमा कराने तथा कम से कम 50 सांसदों-विधायकों को प्रस्तावक और इतने को ही अनुमोदक बनाने को अनिवार्य कर दिया गया।

बहरहाल, हर बार की तरह राज्यसभा के महासचिव राष्ट्रपति चुनाव के लिए चुनाव अधिकारी बनाए गए हैं। राज्यसभा महासचिव वीके अग्निहोत्री के साथ राज्यसभा सचिवालय में संयुक्त सचिव एसके गांगुली और दीपक गोयल चुनाव का काम देख रहे हैं। अग्निहोत्री ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में उतरने वाले उम्मीदवारों को राज्यसभा सचिवालय आकर ही नामांकन पत्र दाखिल करना होगा।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us