विज्ञापन

राष्ट्रपति चुनाव के लिए आने लगे हैं ‘धरतीपकड़’

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Tue, 19 Jun 2012 12:00 PM IST
more-candidates-nominate-for-presidential-elction
विज्ञापन
ख़बर सुनें
राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र भरना शुरू कर दिया है। अब तक तीन ‘धरतीपकड़’ उम्मीदवार अपने नामांकन पत्र भर चुके हैं। एक ने तो महाराष्ट्र से 50 एमएलए और एमएलसी को प्रस्तावक बनाने का भी दावा पेश किया है। इन नामांकनों के साथ ही राज्यसभा सचिवालय राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया में जुट गया है।
विज्ञापन
नामांकन पत्र जमा करवाने वाले दिल्ली, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के हैं। मध्य प्रदेश के ग्वालियर के आनंद सिंह कुशवाहा और दिल्ली के नांगलोई स्थिति कविता कालोनी निवासी ओमप्रकाश अग्रवाल ने पिछले हफ्ते ही नामांकन पत्र भर दिया था। उत्तर प्रदेश के वाराणसी के वरुणपुर कैंटोनमेंट निवासी नरेंद्र नाथ ने सोमवार को अपना नामांकन पत्र जमा कराया। उन्होंने महाराष्ट्र के 50 एमएलए और एमएलसी से प्रस्तावक के तौर पर हस्ताक्षर कराए हैं। अब दो जुलाई को नामांकन पत्रों की जांच होगी।

तमिलनाडु के धर्मपुरी निवासी एम. इलियासी भी सोमवार को अपना नामांकन पत्र जमा करने आए थे, लेकिन उन्होंने मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज होने का सुबूत जमा नहीं कराया। इससे उनका नामांकन पत्र पहले ही चरण में रद्द कर दिया गया।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बरेली निवासी सरदार जोगिंदर सिंह उर्फ धरतीपकड़ राष्ट्रपति के लगभग हर चुनाव में मैदान में कूदते थे। इस तरह के ‘धरतीपकड़ों’ पर लगाम कसने के लिए राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए 15 हजार रुपये की जमानत राशि जमा कराने तथा कम से कम 50 सांसदों-विधायकों को प्रस्तावक और इतने को ही अनुमोदक बनाने को अनिवार्य कर दिया गया।

बहरहाल, हर बार की तरह राज्यसभा के महासचिव राष्ट्रपति चुनाव के लिए चुनाव अधिकारी बनाए गए हैं। राज्यसभा महासचिव वीके अग्निहोत्री के साथ राज्यसभा सचिवालय में संयुक्त सचिव एसके गांगुली और दीपक गोयल चुनाव का काम देख रहे हैं। अग्निहोत्री ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में उतरने वाले उम्मीदवारों को राज्यसभा सचिवालय आकर ही नामांकन पत्र दाखिल करना होगा।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

मरीजों को एक्सरे के लिए करना पड़ा घंटों इंतजार

डिजिटल एक्सरे मशीन खराब होने से सोमवार को मरीजों को एक्सरे के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा।

13 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree