शुद्ध पेयजल को वर्ल्ड बैंक देगा आर्थिक मदद

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
World-Bank-will-help-for-pure-drinking-water-in-india
ख़बर सुनें
केंद्र व राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के साथ अब विश्व बैंक भी दूषित पेयजल से जूझ रहे राज्यों में शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए आर्थिक मदद करेगा।
ग्रामीण विकास मंत्रालय ने स्वच्छता एवं शुद्ध पेयजल योजना के तहत विश्व बैंक से आर्थिक मदद की पेशकश की है। जिसे विश्व बैंक ने मंजूर कर लिया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार सहित देश के कुल आठ राज्यों में शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए विश्व बैंक 50 करोड़ डॉलर की आर्थिक मदद करेगा।

ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश के मुताबिक स्वच्छता एवं शुद्ध पेयजल योजना के लिए विश्व बैंक से आर्थिक मदद के प्रस्ताव को फौरी तौर पर मंजूरी मिल गयी है।

वित्त मंत्रालय ने इस आशय की सूचना दी है। इसके लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय जल्द ही योजना का मसौदा तैयार करेगा। जिस पर मार्च 2013 तक हस्ताक्षर होने की उम्मीद है।

रमेश के मुताबिक विश्व बैंक की मदद से पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, छत्तीसगढ़, झारखंड, उड़ीसा और मध्य प्रदेश के उन जिलों में इस योजना के तहत शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जाएगा। जहां अभी तक केंद्र व राज्य के स्तर पर शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने की दिशा में कोई कारगर उपाय नहीं किए गए हैं।

रमेश के मुताबिक मौजूदा समय यह सभी राज्य दूषित पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं। दूषित पेयजल के चलते तमाम तरह की बीमारियां फैल रही हैं। जिसका ज्यादातर शिकार बच्चे हो रहे हैं। इसमें पश्चिम बंगाल की 1303, असम की 1000, बिहार की 940 और झारखंड में साहबगंज जिला आर्गनिक की समस्या से ग्रस्त है।

इसी प्रकार राजस्थान की 7500, कर्नाटक 2500, बिहार की 2700, मध्य प्रदेश की 2300 और पश्चिम बंगाल की 822 बसावटें फ्लोराइड की समस्या से जूझ रही हैं।

उत्तर प्रदेश की 2027 बसावटे, राजस्थान 19000, कर्नाटक 660 और उड़ीसा की एक हजार बसावटें खारापानी की समस्या से ग्रस्त हैं जबकि आयरन की समस्या असम, उड़ीसा, बिहार और त्रिपुरा आदि राज्यों में है।

Spotlight

Most Read

India News Archives

पहली बार बांग्लादेश की धरती से विद्रोहियों के ठिकाने पूरी तरह से साफ: BSF

भारत की पूर्वी सीमा पर दशकों से चले आ रहे सीमा पार विद्रोही शिविरों को लेकर एक अहम जानकारी आई है।

18 दिसंबर 2017

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

Recommended

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen