विज्ञापन

अब बाहर के लोग भी खा पाएंगे जेल की रोटी?

चंडीगढ़/बविंद्र वशिष्ठ Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
People-will-be-able-to-eat-bread-out-of-jail-now
ख़बर सुनें
जेल की रोटी खाने के लिए जेल जाने के जरूरत नहीं। अब घर बैठे ही यह रोटी मिल सकती है। पंजाब में कैदी टिफिन सर्विस शुरू करने जा रहे हैं। जेल में बंद कैदी आपके लिए खाना बनाएंगे और उसे घर और आफिस तक पहुंचाएंगे। लुधियाना से इसकी शुरूआत हो रही है। जेल वेलफेयर कमेटी के जरिए यह सर्विस शुरू होगी। इसका प्रोफिट कैदियों के वेलफेयर पर ही खर्च होगा। लुधियाना में प्रयोग सफल रहा, तो सूबे की अन्य जेलों में इसे शुरू किया जाएगा। सरकार भी इसमें जेल प्रशासन की सहायता करेगी।
विज्ञापन

मास्टर शेफ बन गए कैदी
पंजाब की जेलों में लगभग दो हजार कैदी बंद हैं। विभिन्न अपराधों की सजा काट रहे इन कैदियों को मुख्यधारा से जोड़ने के प्रयास भी हो रहे हैं। उन्हें विभिन्न काम धंधों से जोड़ा जा रहा है। कैदियों की टिफिन सर्विस भी इसी के तहत शुरू की जा रही है। जेल में खाना कैदी ही बनाते हैं। कई कैदी खाना बनाने में मास्टर हैं। इसी के चलते जेल प्रशासन को टिफिन सर्विस का आइडिया आया है।
लुधियाना से शुरुआत क्यों
लुधियाना में फैक्टरियां बहुत हैं और कामगारों में टिफिन की मांग भी काफी रहती है। लिहाजा, लुधियाना से इसकी शुरुआत की जा रही है। विभाग का कहना है कि जेल वेलफेयर सोसाइटी के जरिए इसे चलाया जाएगा। टिफिन सर्विस के लिए कैदी अलग से खाना बनाएंगे। इसका लेखा-जोखा भी अलग होगा। प्रोफिट को कैदियों के वेलफेयर पर ही खर्च किया जाएगा। विभागीय सूत्र बताते हैं कि टिफिन सर्विस के लिए शुरू में प्रदेश सरकार भी वेलफेयर सोसाइटी को आर्थिक सहायता देगी।

लुधियाना जेल में टिफिन सिस्टम शुरू किया जा रहा है। कैदी इसके लिए खाना बनाएंगे। इसे वेलफेयर सोसाइटी केजरिए चलाया जाएगा।
- शशिकांत, डीजी जेल, पंजाब
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us