लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   News Archives ›   India News Archives ›   killer-disease,-15-days-in-deaths-of-34-children

अज्ञात बीमारी से 15 दिन में 34 बच्चे मरे

पटना/एजेंसी Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
killer-disease,-15-days-in-deaths-of-34-children
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बिहार के मुजफ्फरपुर और गया जिले में अज्ञात बीमारी से पीड़ित बच्चों के मरने का सिलसिला जारी है। राज्य के सबसे बड़े अस्पताल पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में भी पिछले 15 दिन में 34 बच्चों की मौत अज्ञात बीमारी से हो गई।


पीएमसीएच के शिशु रोग वार्ड के प्रमुख संजाता राय चौधरी ने गुरुवार को कहा कि पिछले 15 दिनों में यहां अज्ञात बीमारी से 80-85 बच्चे भर्ती हुए हैं, जिसमें से 34 की मौत हो गई।


उन्होंने कहा कि भर्ती होने वाले बच्चे पटना, गया, मुजफ्फरपुर, नवादा, छपरा, सहित राज्य के कई जिलों के हैं। इस बीमारी की जांच जारी है, लेकिन आशंका जताई जा रही है कि यह 'एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिन्ड्रोम' हो सकती है।

उधर, मुजफ्फरपुर में भी गुरुवार को दो और बच्चों की मौत हो गई। इस तरह अब तक 32 बच्चों की मौत हो चुकी है। मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ़ ज्ञानभूषण ने कहा कि बुधवार तक जिले में 18 बच्चों की मौत हो गई है, जबकि 52 बच्चों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। इस बीमारी में बच्चों को तेज बुखार हो रहा है और फिर उनकी मौत हो जा रही है। बीमारी की जांच के लिए रक्त के नमूने लिए गए हैं।

इस बीच, मुजफ्फरपुर में नाराज लोगों ने भारतीय मानव अधिकार सुरक्षा परिषद के बैनर तले कच्ची सराय चौक को जाम कर दिया तथा स्वास्थ्य मंत्री से इस्तीफे की मांग की।

उधर, गया में भी पिछले 28 मई से अब तक अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एएनएमसीएच) में इस बीमारी से ग्रस्त 18 बच्चों को भर्ती कराया गया है, जिनमें नौ की मौत हो गई है। गौरतलब है कि पिछले वर्ष भी ऐसी ही बीमारी से दोनों जिलों में 150 से अधिक लोगों की मौत हुई थी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00