विज्ञापन

यूपी निकाय चुनाव की राह में आ सकती है रुकावट

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Mon, 04 Jun 2012 12:00 PM IST
interruption-may-come-in-the-way-of-UP-poll-body
ख़बर सुनें
यूपी निकाय चुनाव की राह में रुकावट आ सकती है, क्योंकि इसे रद्द करने की मांग वाली याचिका सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में दायर की जाएगी। सर्वोच्च अदालत में इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस आदेश को चुनौती दी जाने वाली है, जिसमें चुनाव में हस्तक्षेप करने से मना किया गया था।
विज्ञापन
विज्ञापन
एक ही स्थान पर दोबारा आरक्षण गैर कानूनी
सर्वोच्च अदालत में राज्य के एक मौजूदा पार्षद राकेश गौतम ने निकाय चुनाव को चुनौती देने का फैसला लिया है। उनका कहना है कि राज्य में होने वाले निकाय चुनाव में उन्हीं स्थानों पर फिर से आरक्षण प्रदान किया गया है, जहां 2004 में कोटा लागू किया गया था, जबकि एक ही स्थान पर चुनाव में दोबारा आरक्षण दिया जाना गैर कानूनी है।

सुप्रीम कोर्ट में दाखिल होगी याचिका
हाईकोर्ट ने इस मसले पर यह कहते हुए हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया था कि चुनाव संबंधी अधिसूचना की घोषणा राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से की जा चुकी है। याचिकाकर्ता के वकील डीके गर्ग ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने की तैयारी पूरी कर ली गई है। 4 जून को सुप्रीम कोर्ट में इस मसले पर याचिका दाखिल हो जाएगी।

5 जून से निकाय चुनाव के नामांकन
याद रहे कि राज्य निर्वाचन आयोग ने 25 मई को चार चरणों में निकाय चुनाव की घोषणा की थी। इससे पहले 23 मई को राज्य सरकार की ओर से निकाय चुनाव संबंधी अधिसूचना जारी की गई थी। जिसमें निकाय के मुख्य पदों को आरक्षण प्रदान किया गया है। गौरतलब है कि 5 जून से निकाय चुनाव के नामांकन शुरू होने हैं।

निकाय चुनाव पर संकट के बादल
इस दौरान सर्वोच्च अदालत अगर राकेश की याचिका पर हस्तक्षेप करने को तैयार हो जाती है तो एक बार फिर से उत्तर प्रदेश के निकाय चुनाव पर संकट के बादल मंडराने लगेंगे। याचिकाकर्ता का कहना है कि इस मामले में सर्वोच्च अदालत को हस्तक्षेप करना चाहिए, क्योंकि यदि जिला जज के यहां चुनाव याचिका दाखिल की जाती है तो उस पर कोई आदेश जारी नहीं हो सकेगा। जिला जज को इस मामले में सीधे तौर पर हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News Archives

जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग करने के फैसले के खिलाफ दायर याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज 

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल के विधानसभा भंग करने के फैसले को चुनौती देने वाली जनहित याचिका खारिज कर दिया है।

10 दिसंबर 2018

विज्ञापन

प्लेन में ‘डायमंड’ लगे देखकर चौंके लोग, जानिए असली हकीकत

डायमंड लगे  इस प्लेन को देखकर लोग चौंक गए हैं। सोशल मीडिया पर तरह तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, क्या है इसकी हकीकत जानिए

7 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election