बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

विदेश में खो रही है हिंदी की चमक

नई दिल्ली/हरीश लखेड़ा Updated Mon, 04 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
hindi-is-loosing-its-glory-abroad

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
टीवी चैनलों समेत प्रचार तंत्रों से देश-दुनिया में अपना परचम फैला रही हिंदी विदेश में बड़े सरकारी बाबुओं के कारण अपनी चमक कायम नहीं रख पा रही है।
विज्ञापन


खासतौर पर विदेश में भारतीय दूतावासों, उच्चायुक्तों व मिशन कार्यालयों में हिंदी की दुर्दशा हो रही है। इन केंद्रों में हिंदी से विदेशी भाषाओं तथा विदेशी भाषाओं से हिंदी में भाषांतरण करने के ठोस इंतजाम नहीं हैं। ज्यादातर भारतीय दूतावासों, उच्चायुक्तों व मिशन-पोस्टों में हिंदी जानने वाले अथवा हिंदी में काम करने वाले अफसर तैनात नहीं हैं।

यह बात विदेशी मामलों की संसदीय स्थाई समिति ने अपनी रिपोर्ट में कही है। हिंदी की इस दुर्दशा से चिंतित स्थाई समिति ने कहा है कि भारतीय दूतावासों, उच्चायुक्तों व मिशन-पोस्टों में हिंदी भाषांतरण के लिए एक विशेष कैडर बनाने की जरूरत है। समिति यह भी चाहती है कि भारतीय संसदीय या अन्य उच्च शिष्टमंडलों के विदेशों के दौरे के समय उन्हें वहां हिंदी भाषांतरण की सुविधा उपलब्ध कराई जाए।


भाजपा सांसद अनंत कुमार की अध्यक्षता वाली इस संसदीय स्थाई समिति ने हिंदी को लेकर चिंता इसलिए भी जताई है कि विदेश दौर पर जाने वाले ससंदीय दल में शामिल सांसदों को आए दिन भाषांतरण को लेकर परेशानी उठानी पड़ती है। हालांकि विदेश मंत्रालय की दलील है कि उसके पास विशेषीकृत भाषातंरकार अधिकारियों का कैडर पहले से है और वे हिंदी में पारंगत हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us