बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

'सीईसी, सीएजी की नियुक्ति के लिए बने कॉलेजियम'

नई दिल्ली/एजेंसी Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
there-should-be-Collegium-for-the-appointment-of-CEC-and-CAG

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मांग की है कि मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) और नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम गठित की जाए, लेकिन कांग्रेस के नेतृत्व वाली केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) ने रविवार को इसे खारिज कर दिया।
विज्ञापन


आम लोगों में भरोसा नहीं
भाजपा नेता आडवाणी ने शनिवार को प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहा कि मौजूदा व्यवस्था के अनुसार, निर्वाचन आयोग की नियुक्ति प्रधानमंत्री की अनुशंसा पर राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। इससे आम लोगों में भरोसा नहीं होता। आडवाणी ने सीईसी और सीएजी की नियुक्ति के लिए प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में कॉलेजियम गठित करने की वकालत करते हुए कहा कि इसमें देश के मुख्य न्यायाधीश, केंद्रीय कानून मंत्री तथा संसद के दोनों सदनों के विपक्ष के नेताओं को शामिल करना चाहिए।


ध्यान भटकाने की कोशिश
आडवाणी ने अपने पत्र में लिखा कि देश में यह विचार तेजी से बढ़ रहा है कि निर्वाचन आयोग जैसी संवैधानिक इकाइयों में नियुक्तियां द्विदलीय आधार पर होनी चाहिए। कांग्रेस की अगुवाई वाली केंद्र की संप्रग सरकार ने हालांकि भाजपा नेता की मांग खारिज करते हुए इसे अपने ब्लॉग से लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश करार दिया, जिसमें उन्होंने गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी पर अप्रत्यक्ष हमला किया था।

केंद्रीय संसदीय कार्य राज्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि सीईसी और सीएजी की नियुक्ति की वर्तमान प्रक्रिया में कुछ भी गलत नहीं है। यह उनके अपने ब्लॉग से लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त एसवाई कुरैशी का कार्यकाल 11 जुलाई को समाप्त हो रहा है, जबकि सीएजी विनोद राय का कार्यकाल अगले साल जनवरी में समाप्त हो रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us