...इसलिए टल गया पेट्रोल दाम घटाने का फैसला

नई दिल्ली/अमर उजाला ब्यूरो Updated Fri, 01 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Decided-to-reduce-petrol-prices

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
पेट्रोल की कीमतें कम करने को तेल कंपनियां तैयार हैं, मगर सरकार राजी नहीं। बृहस्पतिवार को दिन में यह खबर भी आई कि तेल कंपनियों ने प्रति लीटर एक रुपये 60 पैसे दाम घटाने का निर्णय ले लिया है। लेकिन सूत्रों के अनुसार सरकार ने इसकी घोषणा रुकवा दी क्योंकि वह नहीं चाहती कि विपक्षी दल तेल के खेल में मूल्य घटने का श्रेय ले लें।
विज्ञापन

उल्लेखनीय है कि इंडियन ऑयल समेत दूसरी सरकारी तेल कंपनियों ने दो दिन पहले ही कीमतों में कटौती का संकेत दिया था। सूत्रों के मुताबिक बीते पखवाड़े अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत घटने और डॉलर के मुकाबले रुपए की आंशिक मजबूती के बावजूद कंपनियां कीमतें नहीं घटा सकीं, तो सरकार के दबाव में।
जानकारों के अनुसार बृहस्पतिवार को कीमतें घटाने का सरकार की राजनीतिक सेहत पर विपरीत असर हो सकता था। भाजपा को इसका लाभ मिलने की उम्मीद थी। ऐसे में सरकार ने तेल कंपनियों को कीमतें घटाने की घोषणा करने से मना कर दिया।
दूसरी ओर सरकार यह भी जताना चाहती है कि पेट्रोल कीमत पर अंदरखाने चल रही रार और बिगड़ते आर्थिक माहौल के डर से वह जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं ले रही है। सूत्रों की मानें तो अब अगले कुछ दिनों में पेट्रोल के दाम कम करने की आधिकारिक घोषणा तेल कंपनियां कर सकती हैं। यह कटौती डेढ़ से दो रुपए तक हो सकती है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us