प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बचाव में उतरी सरकार

नई दिल्ली/अमर उजाला ब्यूरो Updated Thu, 31 May 2012 12:00 PM IST
Prime-Minister-Manmohan-Singh-Government-came-to-rescue
ख़बर सुनें
टीम अन्ना द्वारा लगाए गए आरोपों के जवाब में सरकार प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बचाव में उतर आई है। कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल के बाद बृहस्पतिवार को विदेश मंत्री एसएम कृष्णा और सूचना एवं प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने भी टीम अन्ना के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया और इसे देश की जनता को गुमराह करने की साजिश करार दिया। सोनी ने टीम अन्ना के आरोपों को प्रधानमंत्री और संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के खिलाफ अविश्वास फैलाने का षड्यंत्र बताया है।
कैबिनेट के फैसले की जानकारी देने के बाद सूचना प्रसारण मंत्री ने कहा कि खुद को सुर्खियों में रखने के लिए टीम अन्ना ने हमारी संवैधानिक संस्थाओं के प्रति जनता का विश्वास खत्म करने के लिए बाकायदा अभियान चला रखा है।

उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को क्या टीम अन्ना कहा जा सकता है, जिनके बीच में ही जबरदस्त फूट है। सोनी ने बताया कि जिन दस्तावेजों के आधार पर टीम अन्ना के सदस्य प्रधानमंत्री पर आरोप लगा रहे हैं, वह नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की रिपोर्ट का प्रारंभिक मसौदा है। यह बात खुद सीएजी के विनोद राय कह चुके हैं कि मसौदे से कोई बात कहना गुमराह करना है।

सोनी ने स्पष्ट किया कि टीम अन्ना की यह आलोचना देश में फैले भ्रष्टाचार को खत्म करने के महत्व को कम करती है। टीम अन्ना के आरोप प्रधानमंत्री कार्यालय को नुकसान पहुंचाने की कोशिश है। मनमोहन सिंह जैसे व्यक्ति पर आरोप लगाना निंदनीय है। उन्होंने टीम अन्ना को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनके पास सबूत हैं तो वे कानूनी मामला बनाएं।

वहीं विदेश मंत्री एस एम कृष्णा ने कहा है कि टीम अन्ना के यह आरोप उनकी छवि को धूमिल करने की साजिश है। जब न्यायमूर्ति संतोष हेगडे़ ने अपनी रिपोर्ट में उन्हें खनन घोटाले में क्लीन चिट दे दी है तो क्यों एक और जांच करवाने की मांग की जा रही है। उन्होंने कहा कि उन पर लगे आरोपों को लेकर वह प्रधानमंत्री को विस्तृत जवाब देंगे।

Spotlight

Most Read

India News Archives

पहली बार बांग्लादेश की धरती से विद्रोहियों के ठिकाने पूरी तरह से साफ: BSF

भारत की पूर्वी सीमा पर दशकों से चले आ रहे सीमा पार विद्रोही शिविरों को लेकर एक अहम जानकारी आई है।

18 दिसंबर 2017

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen