विज्ञापन

हिमाचल के सेब बगीचों पर वूली एफिड की मार, विशेषज्ञों ने दी ये सलाह

विपिन काला, अमर उजाला, शिमला Updated Thu, 28 Nov 2019 12:42 PM IST
वूली एफिड
वूली एफिड - फोटो : सोशल मीडिया
ख़बर सुनें
हिमाचल के सेब उत्पादित क्षेत्रों में वूली एफिड की मार पड़ी है। इससे बागवान चिंतित हो गए हैं। बागवानों की ओर से बगीचों में यूरिया खाद डालने से वूली एफिड की समस्या पैदा हुई है। बागवानी विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि वैज्ञानिक तरीके से बगीचों का प्रबंधन करें। जिन इलाकों में बगीचों में पेड़ों पर पत्ते हरे हैं, वहां यूरिया की मार नहीं पड़ रही है।
विज्ञापन
जिन क्षेत्रों में सेब पेड़ों के पत्ते झड़ने के बाद बगीचों में यूरिया खाद डाली गई है, वहां बागवान वूली एफिड की मार पड़ने की शिकायतें कर रहे हैं। जिन बागवानों ने बिना वैज्ञानिक सलाह बगीचों में यूरिया खाद डाली, वहां सेब पेड़ों पर वूली एफिड ने हमला बोला है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इन दिनों तापमान दिन में ज्यादा और रात को शून्य से नीचे जा रहा है। ऐसी स्थिति में भी वूली एफिड के हमले की शिकायतें ज्यादा आती हैं। 

बागवानी विशेषज्ञ डॉ. एसपी भारद्वाज ने कहा कि सेब के पेड़ों के पत्ते झड़ने के बाद अगर यूरिया डाली गई है और तापमान दिन के समय ज्यादा और रात को कम रहता है तो ऐसी स्थिति में वूली एफिड का हमला होना स्वाभाविक है। जिन क्षेत्रों में सेब के पेड़ों में पत्ते हरे हैं तो बागवान बगीचों में यूरिया डाल सकते हैं। अगर गलत समय पर बगीचों में यूरिया खाद डाली जाती है तो कई बार पेड़ों की बीमों पर फूल आ जाते हैं। इससे सेब के पेड़ों की फसल पर विपरीत असर पड़ता है और एक साल तक फल नहीं लग पाते। 

वूली एफिड से परेशान बागवान करें छिड़काव
बागवानी विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि बागवान पेड़ों पर जिंक सल्फेट और बोरिक एसिड का घोल बनाकर छिड़काव करें। यह घोल वैज्ञानिक सलाह से ही बनाएं। दो सौ लीटर पानी में 1 किलो जिंक सल्फेट और 200 ग्राम बोरिक एसिड का घोल बनाकर पेड़ों पर छिड़काव करें। यह घोल 20 से 25 पेड़ों में छिड़काव के लिए उपयुक्त रहेगा। जिन पेड़ों पर वूली एफिड की मार पड़ी है, वहां इस घोल का तेज छिड़काव करने से भी राहत मिलेगी।
विज्ञापन

Recommended

आईआईटी से कम नहीं एलपीयू, जानिए कैसे
LPU

आईआईटी से कम नहीं एलपीयू, जानिए कैसे

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक

विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

विरोध में उतरे जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र, वीसी दफ्तर का घेराव कर किया प्रदर्शन

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र-छात्राओं ने सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया और वीसी नजमा अख्तर के दफ्तर का घेराव कर नारेबाजी की। 

13 जनवरी 2020

विज्ञापन

डायरेक्टर जिसने माधुरी दीक्षित को फिल्म के दौरान मां बनने से मना कर दिया

24 जनवरी 1945 को जन्मे सुभाष घई ने फिल्म इंडस्ट्री को बेहतरीन फिल्में दी हैं। एक समय ऐसा भी था जब सुभाष घई के साथ काम करना हर फिल्मी सितारे का सपना हुआ करता था। उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनसे जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से।

24 जनवरी 2020

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us