सिस्तेमा का 18 जनवरी के बाद भी सेवाएं जारी रखने का इरादा

नई दिल्ली/एजेंसी Updated Thu, 27 Dec 2012 11:47 PM IST
intend to continue operations beyond jan 18 2013 says sstl
ख़बर सुनें
दूरसंचार कंपनी सिस्तेमा श्याम टेलीसर्विसेज (एसएसटीएल) ने अपने ग्राहकों से कहा है कि 18 जनवरी 2013 के बाद भी उसका देश में अपना परिचालन जारी रखने का इरादा है। सुप्रीम कोर्ट ने एसएसटीएल का लाइसेंस निरस्त कर दिया है, जिसकी वैधता आगामी 18 जनवरी तक ही है। कंपनी ने कहा है कि वह देश में अपनी सेवाएं जारी रखने के लिए आगे कदम उठा रही है।

एमटीएस ब्रांड से सेवाएं देने वाली कंपनी ने ग्राहकों को दिए अपने संदेश में कहा है कि वह अपने ग्राहकों और भारत में किए गए निवेश को देखते हुए अपनी सेवाएं 18 जनवरी 2013 के बाद भी जारी रखने का इरादा रखती है। एसएसटीएल ने कहा कि कोर्ट के निर्णय से उसके राजस्थान सर्किल के लाइसेंस पर कोई असर नहीं होगा और कंपनी वहां अपनी सेवाएं जारी रख सकेगी। मालूम हो कि, अक्तूबर 2012 के आखिर तक कंपनी के ग्राहकों की संख्या 1.6 करोड़ से अधिक दर्ज की गई। टूजी स्पेक्ट्रम मामले में सुप्रीम कोर्ट ने विगत 2 फरवरी को एसएसटीएल के 21 लाइसेंस निरस्त कर दिए थे। एसएसटीएल के अलावा कई और कंपनियों के लाइसेंस अदालत ने निरस्त किए थे।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: देखिए, केदारनाथ में बनकर तैयार हुई पीएम मोदी की ‘गुफा’!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले निर्देशों के बाद केदारनाथ धाम में विशेष रूप से एक गुफा का निर्माण किया गया है। इस गुफा को बनाने के पीछे का मकसद है कि यहां आए भक्त साधना के इच्छुक हैं तो वो केदारपुरी की इस गुफा में रुक कर साधना कर सकते हैं।

17 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen