सुधारों की राह में तेजी लाए सरकारः फिक्की

Varun Kumar Updated Tue, 14 Aug 2012 01:37 PM IST
government to expedite path of reforms
ख़बर सुनें
आरबीआई की आर्थिक सुधारों को लागू करने में नजर आ रही सुस्ती, औद्योगिक परियोजनाओं के लिए जमीन अधिग्रहण न हो पाने, जीएसटी, रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति और डीजल की कीमतों को नियंत्रण मुक्त करने की कवायद जैसी चीजों ने उद्योग जगत को आशंकित कर रखा है।
उद्यमियों का मानना है कि इन मामलों का समाधान हुए बिना देश के आर्थिक विकास में तेजी ला पाना मुश्किल है। देश की प्रमुख औद्योगिक संस्था फिक्की के एक प्रतिनिधि मंडल ने प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) के अध्यक्ष डॉ. सी रंगराजन से मुलाकात कर उन्हें अपनी चिंताओं से अवगत कराया।

फिक्की के अध्यक्ष व कनोरिया कैमिकल्स के सीएमडी की अध्यक्षता में डॉ. रंगराजन से मिले इस प्रतिनिधिमंडल ने देश के कारोबार और उद्योग जगत में छाई सुस्ती को दूर करने के उपाय करने के साथ-साथ आर्थिक सुधारों में तेजी लाए जाने की जरूरत पर जोर दिया।

उद्योग संगठन ने मांग की है कि सरकार गुड्स एवं सर्विस टैक्स (जीएसटी) के क्रियान्वयन में तेजी लाए तथा विभिन्न सेक्टरों में निवेश को बढ़ावा देने के लिए पैकेज प्रदान करे। इसके साथ ही मौद्रिक नीति में नरमी लाए जाने और भूमि अधिग्रहण कानून को उसके वर्तमान स्वरूप में पारित न करने की गुहार भी सरकार से लगाई गई।

इसके अलावा संगठन ने सरकार से मल्टी ब्रांड रिटेल व विमानन उद्योग जैसे क्षेत्रों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) से जुड़े उन पहलुओं पर कार्रवाई को आगे बढ़ाने की भी गुजारिश की है, जिनमें संसद के दायरे से बाहर रहते हुए का प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा सकता हो।

फिक्की ने सरकार से डीजल की कीमतों को नियंत्रण मुक्त करने को फिलहाल टालने और कोयला क्षेत्र की बेहतरी के लिए कदम उठाने भी आग्रह किया है। डा. रंगराजन से मिलने वाले प्रतिनिधि मंडल में फिक्की की वरिष्ठ उपाध्यक्ष नैना लाल किदवई, उपाध्यक्ष सिद्धार्थ बिड़ला, महासचिव अरबिंद प्रसाद पूर्व अध्यक्ष राजन मित्तल, हर्षपति सिंहानिया, वाईके मोदी आदि शामिल थे।

Spotlight

Related Videos

इनके सामने शेर भी बन जाता है बकरी

शेर को जंगल का राजा और सबसे खतरनाक जानवर कहा जाता है। लेकिन हम आपको एक ऐसा वीडियो दिखाने जा रहे हैं जिसमें शेर एक शख्स के सामने बकरी की तरह मिमिया रहा है...

23 जून 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen