वित्त मंत्रालय पीएम के पास रहे, तो बेहतर: बसु

Market Updated Sat, 23 Jun 2012 12:00 PM IST
Ministry-of-Finance-to-the-Prime-Minister-are-the-better-Basu
ख़बर सुनें
वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु ने कहा है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह यदि वित्त मंत्रालय का प्रभार अपने पास रखते हैं तो यह राष्ट्र के लिए अच्छा होगा। बसु ने एक साक्षात्कार में कहा कि अगले वित्त मंत्री के सवाल पर वह टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री इस मंत्रालय का प्रभार अपने पास रख सकते हैं। प्रधानमंत्री कुशल अर्थशास्त्री हैं व 1991 में उन्होंने आर्थिक सुधारों को गति दी थी।
उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री बनाने का निर्णय राजनीतिक स्तर पर होता है। कौन आता है, कौन जाता है। यह मुद्दा नहीं है, लेकिन यह सुनिश्चित होना चाहिए कि जो व्यक्ति वित्त मंत्री बने, वह इस पद के लिए पूरी तरह सक्षम हो। बसु ने स्वीकार किया कि गठबंधन राजनीति से सरकार के निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित होती है और अब निर्णय लेने का वक्त आ चुका है। उन्होंने कहा कि आर्थिक मामलों को लेकर सरकार की आलोचना हो रही है।

पिछली तिमाही में आर्थिक विकास दर की वृद्धि 5.3 प्रतिशत पर आ गई। घरेलू स्तर पर भी समस्याएं हैं, लेकिन इसे भी स्वीकार करना चाहिए कि ग्लोबल परिस्थितियों की वजह से भी समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं। यदि हम इसे नहीं स्वीकार करेंगे, तो यह देश के साथ अन्याय होगा। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर राजनीतिक गठबंधनों में उभरे मतभेदों पर बसु ने कहा कि इससे सरकार को एक अवसर मिला है और घटक दलों को मिलकर सुधार को आगे बढ़ाने के लिए बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार है, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता है सरकार का प्रत्येक व्यक्ति भ्रष्ट है।

उन्होंने सुधारों का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रशासनिक सुधार समय की जरूरत है। नौकरशाही को यह मानना चाहिए कि यह राष्ट्रहित में है। देश के बगैर नेता के चलने से संबंधित टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि वह इससे सहमत नहीं है। यह ऐसी स्थिति नहीं है कि देश नेतृत्व विहीन है। यह एक गठबंधन सरकार है। इसमें एक व्यक्ति निर्णय नहीं ले सकता है।

उन्होंने कहा कि यहां तानाशाही नहीं है और गठबंधन सरकार में सर्वसम्मति से निर्णय लिए जाते हैं। इसमें कुछ मतभेद हो सकते हैं और ऐसी समस्या अमेरिका, फ्रांस और यूनान में भी है। रुपये में जारी गिरावट की तुलना 1990 की गिरावट से करने पर आपत्ति जताते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान स्थिति की वर्ष 1990 से तुलना नहीं की जा सकती है। 1990 में प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी लगभग शून्य थी, लेकिन वर्तमान में यह चार प्रतिशत की दर से बढ़ रही है। उस समय भारत का विदेशी मुद्रा भंडार पांच अरब डॉलर से भी कम था, लेकिन अभी यह 300 अरब डॉलर के आसपास है। निर्यात भी बढ़ रहा है।

एफडीआई से किसानों व ग्राहकों को भी लाभ
वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार कौशिक बसु ने मल्टी ब्रांड खुदरा कारोबार के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की पुरजोर वकालत करते हुए कहा है कि इससे किसानों के साथ ही खरीदारों को भी लाभ होगा। बसु ने कहा कि खुदरा कारोबार में एफडीआई होना चाहिए, लेकिन राजनीतिक कारणों से ऐसा नहीं हो सका है।

उन्होंने कहा कि प्रांरभ में इससे छोटे कारोबारियों पर प्रतिस्पर्धा का दबाव हो सकता है, लेकिन इस क्षेत्र के विस्तार की अपार संभावनाएं हैं। बडे़ स्टोर आ सकते हैं और उससे दोगुनी संख्या मेंछोटे स्टोर भी आ सकते हैं। मल्टी ब्रांड में रिटेल में एफडीआई इसके लागू होने के बाद भारतीय आर्थिक विकास पर इसके प्रभाव को देखा जा सकेगा।

Spotlight

Related Videos

घाटी में तैनात हुए आतंकियों के यमराज, देखिए कैसे होती है इनकी ट्रेनिंग

जम्मी कश्मीर में आतंकियों से निपटने के लिए अब एनएसजी कमांडो की तैनात कर दी गई है। आतंकियों के खिलाफ नए सिरे से ऑपरेशन को शुरू करने के लिए गृह मंत्रालय ने ये कदम उठाया गया है।

21 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen