हवाई यात्रा हो सकती है 20 फीसदी सस्ती

Market Updated Wed, 20 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
air-travel-may-be-20-per-cent-cheaper
ख़बर सुनें
पिछले कुछ महीनों में एयरलाइंस कंपनियों द्वारा हवाई किराये में की गई बेतहाशा बढ़ोतरी पर नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) की फटकार के बाद विमानन कंपनियां अपने अधिकतम किराये में 5 से 20 फीसदी तक की कटौती करने के लिए राजी हो गई हैं।
विज्ञापन

आधिकारिक सूचना के मुताबिक घरेलू विमानन कंपनियों ने डीजीसीए के साथ चर्चा के बाद किराये की अधिकतम दर में 5 से लेकर 20 प्रतिशत तक की कटौती करने का प्रस्ताव रखा है। डीजीसीए ने कंपनियों की इस पेशकश को स्वीकार करते हुए एयरलाइंस से इसकी सूचना अपनी वेबसाइट पर भी देने को कहा है।
डीजीसीए ने पिछले कुछ महीनों में यात्री किरायों में हुई भारी बढ़ोतरी की वजह से हो रही दिक्कतों पर चर्चा के लिए घरेलू विमानन कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को कल बुलाया था। दरअसल किराये में भारी बढ़ोतरी की वजह से यात्रियों की संख्या में गत महीने दर्ज की गई कमी ने डीजीसीए को इस मुद्दे को गंभीरता से लेने के लिए बाध्य कर दिया है।
डीजीसीए ने विमानन कंपनियों से साफ तौर पर कहा कि मई 2011 की तुलना में इस साल मई में विमान ईंधन की कीमतों में 16 प्रतिशत की तेजी रही है, लेकिन किरायें में इससे काफी अधिक बढ़ोतरी हुई है। इसके अलावा टिकट बुकिंग शुरू होते समय किराये के अधिक होने और वक्त बीतने के साथ, यानी अंतिम क्षणों में इसे कम करने की प्रवृत्ति पर भी विमानन कंपनियों को फटकार लगाई गई।

इस बैठक में किराये में भारी बढ़ोतरी के अलावा एक ही मार्ग पर विभिन्न ऑपरेटरों के किराये में बडे़ अंतर का मुद्दा भी उठा। देश की दो प्रमुख विमानन कंपनियों किंगफिशर और एयर इंडिया के संकटग्रस्त होने से घरेलू उड्डयन क्षेत्र की सेहत को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। इस स्थिति में यात्री किरायों में अनियमितता की शिकायत आने से हालात और खराब हो सकते हैं। इसके मद्देनजर डीजीसीए ने किराया दरों को तर्कसंगत बनाने के लिए घरेलू विमानन कंपनियों को सख्त निर्देश भी दिए।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us