विज्ञापन

भारत अक्षय ऊर्जा की हिस्सेदारी बढ़ाएगा

Market Updated Sun, 17 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
India-will-increase-the-share-of-renewable-energy
ख़बर सुनें
केंद्रीय नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने कहा है कि भारत वर्ष 2020 तक विद्युत उत्पादन के क्षेत्र में अक्षय ऊर्जा की हिस्सेदारी को 15 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि 2017 तक अक्षय ऊर्जा के उत्पादन में लगभग 30 गीगावाट की वृद्धि के लक्ष्य के साथ एक कार्य योजना बनाई गई है। डॉ. अब्दुल्ला शुक्रवार को आयरलैंड के डबलिन में इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल एंड यूरोपियन अफेयर्स (आईआईईए) में एक सभा को सम्बोधित कर रहे थे।
विज्ञापन

उन्होंने कहा कि 25 गीगावाट से भी अधिक स्थापित क्षमता की ग्रिड के साथ भारत अक्षय ऊर्जा उत्पान क्षमता के मामले में विश्व के पांच प्रमुख देशों में शामिल है। अब्दुल्ला ने कहा कि भारत में कुल स्थापित बिजली उत्पादक क्षमता में से 12 प्रतिशत हिस्सा अक्षय ऊर्जा का है।
डॉ. अब्दुल्ला ने जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय सौर मिशन का भी उल्लेख किया और कहा कि इससे सौर विद्युत के उत्पादन लागत में कमी आई है। उन्होंने बताया कि लगभग 11 लाख भारतीय परिवार अपनी ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए पहले ही सौर ऊर्जा का प्रयोग कर रहे हैं।
मंत्री ने अक्षय ऊर्जा तकनीकों के निर्बाध स्थानांतरण के लिए एक प्रणाली तैयार करने की ज़रूरत पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि ब्राजील के रियो डी जनेरियो में सतत विकास (रियो 20+) पर आयोजित संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में भारत ऐसे वैश्विक प्रयासों की आशा करता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us