विज्ञापन

आपकी गाढ़ी कमाई ‘लूट’ रहीं मोबाइल कंपनियां

Market Updated Sun, 17 Jun 2012 12:00 PM IST
Your-hard-earned-wealth-is-looted-by-mobile-companies
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मोबाइल सेवा कंपनियों की नजर में आम आदमी की गाढ़ी कमाई की कोई कीमत नहीं है। कभी रिंगटोन, कभी किसी मॉडल की हॉट तसवीर तो कभी मस्त चुटकुलों के नाम पर मोबाइल कंपनियां अपनी मर्जी से आपको वैल्यू एडेड सर्विस देती हैं और अपनी मर्जी से ही आपका पैसा काट लेती हैं।
विज्ञापन
तमाम शिकायतों और कदमों के बावजूद कंपनियां सुधर नहीं रही हैं। दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) भी कंपनियों की इस खुलेआम लूट पर लगाम लगाने में असमर्थ है। ट्राई को पिछले साल इस तरह की लगभग 73 लाख से ज्यादा शिकायतें मिली थीं।

वैसे जानकार बताते हैं कि असल में यह आंकड़ा बहुत ज्यादा है, क्योंकि कुछ ही लोग ट्राई तक पहुंच पाते हैं। ऐसा भी नहीं कि ट्राई ने इसकी सुध नहीं ली है। पिछले साल ही ट्राई ने आदेश जारी किया था, जिसके तहत ऑपरेटरों को कहा गया था कि सेवा देने से पहले कंपनियों को पहले ग्राहकों से एसएमएस, ई-मेल या फैक्स के तौर पर लिखित पुष्टि लेनी पड़ेगी। साथ ही सेवा की समय सीमा खत्म होने के बाद ग्राहकों से कंपनियों को इसे दुबारा लेने के लिए भी पुष्टि करनी पड़ेगी।

आदेश जारी होने के एक साल बाद भी कंपनियां इसे अपनाने में कोताही बरत रही हैं। दरअसल, कंपनियां इन निर्देशों पर अमल करना नहीं चाहती, क्योंकि इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि कंपनियों के कुल मुनाफे के 20 फीसदी हिस्सा उसे इस तरह की सेवाओं के जरिए आता है। दूरसंचार विशेषज्ञ कहते हैं कि अगर ट्राई के निर्देशों के तहत कंपनियां ग्राहकों की मंजूरी लेना शुरू कर दें तो उनका यह गोरखधंधा घटकर आधा हो जाएगा।

रिंगटोन, वॉलपेपर और मस्त चुटकुलों जैसी वैल्यू एडेड सेवाएं ग्राहकों के बीच छोटे शहरों में बहुत पसंद की जाती हैं। वहां अज्ञानता के कारण भी ग्राहक कंपनियों की चाल में फंस जाते हैं। वहीं ग्राहकों के साथ कंपनियों के इस मनमाने रवैये का एक और पहलू भी है।

कंपनियों ने अपनी वैल्यू एडेड सेवाओं का काम दूसरी एजेंसियों को आउटसोर्स कर रखा है। यानी कि ग्राहकों को रिंगटोन, एसएमएस पैकेज या किसी अन्य सेवा देने का काम बाकायदा एजेंसियों का कॉल सेंटर नेटवर्क करता है।

दूरसंचार विशेषज्ञ सुधीर उपाध्याय कहते हैं कि कंपनियों और आउटसोर्स एजेंसियों के बीच बाकायदा करार होता है, जिसके तहत जितनी ज्यादा सेवा ग्राहकों को बेची जाती है, उतनी ज्यादा रकम कंपनियों की ओर से एजेंसियों को देनी पड़ती है। ऐसे करार के चक्कर में ही एजेंसियों ज्यादा मुनाफा कमाने की लालच में ग्राहकों की बिना मर्जी के सेवा थोपती हैं।

अभी पिछले ही साल ट्राई ने इस तरह कई एजेंसियों पर रोक लगाई थी। मगर बाद में पता चला कि इसमें से कई एजेंसियां नाम बदलकर दुबारा इस कारोबार में जुट गईं। मोबाइल कंपनियां ट्राई को कह रही हैं कि वह अब ऐसी सेवा देने के पूरे तंत्र को बदलने के लिए तैयार है, लेकिन ऐसा करने में कुछ समय लगेगा। वहीं ट्राई का कहना है कि नए तंत्र की जरूरत नहीं है।

अगर कंपनियां ट्राई के निर्देशों पर अमल करना शुरू कर दें तो अलग से तंत्र स्थापित करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कंपनियों और ट्राई की यह बहस लंबी चलेगी, लेकिन इस चक्कर में ग्राहक की जेब लूट रही है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

गर्भवती को जलाकर मार डाला, कोर्ट ने पति, सास-ससुर को सुनाई बड़ी सजा

दहेज के लिए गर्भवती को जलाकर हत्या करने के मामले में फर्रुखाबाद जिला जज अरुण कुमार मिश्र ने पति, सास, ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

एशिया कप में एक बार फिर भारत-पाकिस्तान की भिड़ंत, देखिए किसका पलड़ा भारी

एशिया कप के सुपर संडे में एक बार फिर भारत और पाकिस्तान आमने-सामने हैं। टूर्नामेंट में पाकिस्तान को पहले भी पटखनी देने के बाद भारत के हौसले बुलंद हैं तो वहीं पाकिस्तान हार का बदला लेने उतरेगी। देखिए किस टीम का पलड़ा है भारी।

22 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree