यूरोजोन संकट का असर भारत पर भी : पीएम

Market Updated Sun, 17 Jun 2012 12:00 PM IST
Eurozone-crisis-impact-India-also-PM
ख़बर सुनें
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने यूरोजोन के गहराते आर्थिक संकट पर चिंता व्यक्त करते हुए शनिवार को यूरोपीय देशों के नेताओं से इस स्थिति का समाधान ढूंढने की दिशा में आवश्यक कदम उठाने का आग्रह किया।
प्रधानमंत्री ने मैक्सिको और ब्राजील के दौरे पर रवाना होने के पहले जारी एक बयान में कहा कि लड़खड़ाती वैश्विक अर्थव्यवस्था और यूरोजोन के गहराते आर्थिक संकट की छाया में जी-20 देशों के नेता एक बार फिर मिल रहे हैं।

उन्होंने यूरोजोन के साथ भारत के आर्थिक संबंधों की चर्चा करते हुए कहा कि वहां जारी आर्थिक समस्याओं से वैश्विक बाजारों पर असर पडे़गा और हमारा आर्थिक एजेंडा इससे बुरी तरह प्रभावित होगा।

पीएम ने कहा कि अब समय आ गया है जब जी-20 देशों को समन्वय के साथ काम करना पडे़गा और सतत विकास को बढ़ावा देने संबंधी नीतियों को लागू करना होगा। भारत इसी मकसद को ध्यान में रखकर अपनी क्षमता के अनुरूप मजबूत, सतत और संतुलित वृद्धि की दिशा में काम कर रहा है।

मनमोहन सिंह ने कहा कि वे जी-20 बैठक में विकास के मुद्दे पद जोर दिए जाने की वकालत करेंगे, जिससे कि बुनियादी ढांचे में निवेश कर वैश्विक अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित किया जा सके। उन्होंने कहा कि जी-20 बैठक शुरू होने से पहले वह ब्रिक्स देशों ब्राजील, रूस, चीन और दक्षिण अफ्रीका के शीर्ष नेताओं से इस बैठक के एजेंडे पर विचार-विमर्श करेंगे। भारत भी इस समूह का सदस्य है।

राजधानी दिल्ली में इस वर्ष मार्च में ब्रिक्स देशों के नेताओं ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर काम करने पर सहमति जताई थी ताकि वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए व्यापक स्तर पर नीतियां बनाई जा सके। सिंह ने स्वीकार किया है कि सतत विकास के रास्ते से हम अभी भी काफी दूर हैं।

प्रधानमंत्री ने रियो सम्मेलन का जिक्र करते हुए कहा कि भारत 1992 के पृथ्वी शिखर सम्मेलन की मुख्य बातों को हल्का करने के बजाए साझा जिम्मेदारी के सिद्धांत पर खासतौर से ध्यान देगा, क्योंकि इस समय विश्व में विकास का स्तर असमान है और विकासशील देशों को वित्तीय एवं तकनीकी समर्थन दिए जाने की आवश्यकता है। इसे देखते हुए भारत समान विचारधारा वाले देशों के साथ मिलकर काम करेगा।

Recommended

Spotlight

Related Videos

VIDEO: डेढ मिनट में जानिए अटल बिहारी वाजपेयी का करिश्माई व्यक्तित्व

भारतीय जनता पार्टी को नई ऊंचाईयों तक पहुंचाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहरी वाजपेयी का आदर न सिर्फ उनके दल के लोग करते हैं, बल्कि विपक्षी दलों के नेता भी उनके कायल है।

15 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree