कालीन के उधार निर्यात पर लगा प्रतिबंध

Market Updated Fri, 08 Jun 2012 12:00 PM IST
Carpet-ban-on-export-credit
केंद्र सरकार ने कालीन के उधार निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय ने इस बारे में अधिसूचना भी जारी कर दी है। उधार निर्यात पर रोक लगाने के साथ ही वाणिज्य मंत्रालय ने कालीन व्यवसायियों को एक और राहत देते हुए उन्हें मिलने वाली बैंक ब्याज दर में दो प्रतिशत तथा निर्यात लाइसेंस पर सात प्रतिशत की सब्सिडी को बरकरार रखा है। माना जा रह है कि सरकार के इन कदमों से छोटे और मंझोले कालीन निर्यातकों को राहत मिलेगी। खासतौर पर मिर्जापुर के भदोही के कालीन उद्योग को इससे काफी राहत मिलेगी।

कालीन संवर्धन परिषद (सीईपीसी) के अध्यक्ष सिंहनाथ सिंह ने कहा कि उधार निर्यात पर प्रतिबंध की मांग पिछले तीन साल से की जा रही थी। प्रतिबंध लग जाने के बाद मध्यम वर्ग के बारह सौ से अधिक उद्यमियों को काफी राहत मिलेगी। गला काट प्रतिस्पर्धा के बीच उधार में निर्यात के चलते में पांच सौ से अधिक कालीन निर्यातकों के करीब 800 करोड़ रुपये विदेशों में फंसे पड़े हैं। इसके चलते कई विदेशी कंपनियां तो खुद को दिवालिया तक घोषित कर चुकी हैं।

कालीन कारोबारियों का कहना है कि अमरीका, जर्मनी समेत यूरोपीय देशों में आर्थिक मंदी के कारण भारतीय कालीन निर्यातक अपनी पूंजी को लेकर पसोपेश में थे। प्रतिस्पर्धा के युग में उधार व्यापार का हिस्सा बन गया है। विदेशी खरीददार अक्सर उधार लेकर करोड़ों की रकम डकार जाते थे। कभी कभी भुगतान तीन-चार महीने के बजाय सालों बाद किया जाता था।

इससे पहले 1994 से 2004 तक उधार निर्यात पर प्रतिबंध था, जिसे केंद्र सरकार ने 2005 में हटा लिया था। एक बार फिर से प्रतिबंध लागू होने से उम्मीद है कि अब कालीन निर्यातक उधार के सौदों के दुष्चक्र में नहीं फंसेंगे।

Spotlight

Related Videos

भारतीय डाक में निकलीं 2,411 नौकरियां, ऐसे करें अप्लाई

करियर प्लस के इस बुलेटिन में हम आपको देंगे जानकारी लेटेस्ट सरकारी नौकरियों की, करेंट अफेयर्स के बारे में जिनके बारे में आपसे सरकारी नौकरियों की परीक्षाओं या इंटरव्यू में सवाल पूछे जा सकते हैं और साथ ही आपको जानकारी देंगे एक खास शख्सियत के बारे में।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls