सोना 30,450 के नए रिकार्ड पर

Market Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
gold-is-on-new-record-of-30450
यूरोप की वित्तीय हालत में सुधार की अटकलों से अंतरराष्ट्रीय कारोबार में सोने एक प्रतिशत से अधिक की बढ़त हासिल की, जिससे दिल्ली सराफा बाजार में भी सोने के भाव 250 की बढ़त के साथ रिकॉर्ड 30,450 रुपये प्रति दस ग्राम की ऊंचाई पर दर्ज किए गए। चांदी भी 1,420 रुपये चढ़कर 55,500 रुपये प्रति किलो के भाव पर रही और चांदी सिक्के के दाम में 3000 रुपये प्रति सैकड़ा का इजाफा देखा गया।

लंदन से मिली खबरों के मुताबिक यूरोपीय मंडल के ऋण संकट पर जी-7 देशों के वित्त मंत्रियों की बैठक में यूनान और स्पेन को राहत मिलने की उम्मीद है से सराफे सहित कच्चे तेल, शेयर बाजार और तमाम कमोडिटी बाजारों में देखी गई। कारोबार के दौरान सोने के भाव एक प्रतिशत बढ़कर 1,633.10 डॉलर प्रति औंस पर देखे गए। अमेरिकी सोना वायदा 1,634.70 डॉलर प्रति औंस पर बोला गया। चांदी के दाम 2.6 प्रतिशत चढ़कर 29.30 डॉलर प्रति औंस पहुंच गए।

स्थानीय सराफा बाजार में सोने की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर रहीं। कारोबार के दौरान सोने की कीमत 30,200 रुपये से 250 रुपये चढ़कर रिकॉर्ड 30,450 रुपये प्रति दस ग्राम हो गई। मांग आने की संभावना से चांदी भी 54,080 रुपये से 1,420 रुपये उछल कर 55,500 रुपये प्रति किलो बोली गई। कारोबार के दौरान चांदी सिक्का लिवाली और बिकवाली के दाम 3,000-3,000 रुपये चढ़कर 67,000-68,000 रुपये प्रति सैकड़ा हो गए। गिन्नी 150 रुपये बढ़कर 24,250 रुपये प्रति दर्ज की गई।

पुराना सोना बेचकर कमा रहे मुनाफा

कीमतों में इस उछाल के चलते घरेलू सराफा बाजार में पुराने सोने की आवक भी बढ़ती दिख रही है। ऊंची कीमतों का फायदा उठाने के लिए बाजार में पुराना सोना बेचकर मुनाफा कमाने के सौदों में इन दिनों तेजी आ गई है। बीते सप्ताह अंतरराष्ट्रीय कारोबार में सोने के दाम 1,600.00 डॉलर प्रति औंस से ऊपर निकल गए और घरेलू स्तर पर भी सोने के दाम रिकॉर्ड स्तर पर दर्ज किए गए। सोने के रिकार्ड भावों ने इन दिनों घरेलू सराफा बाजार की चाल बदल दी है। बाजार से लिवाली गायब हो गई है, जबकि बिकवालों की आमद बढ़ रही है।

निवेशक के तौर पर खरीदे गए सोने के साथ ही गहने आदि के रूप में निजी तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले सोने की भी बाजार में भरमार देखी गई। एक अनुमान के अनुसार सोने की बढ़ी कीमतों के कारण इस वर्ष सराफा कारोबार में 400 टन पुराना सोना आने की उम्मीद है, जबकि पिछले वर्ष बाजार में 130 टन पुराना सोना बेचा गया था।

कारोबारियों का कहना है कि शेयर बाजार में जारी उथल पुथल और ऊंची ब्याज दरों के कारण लोग सोने को नकदी में बदल रहे हैं। इस कारण पुराना सोना बेचने वाले लोगों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। पिछले सप्ताह रुपये के भाव रिकॉर्ड 56.52 रुपये प्रति डॉलर तक गिर गए थे। दूसरी ओर अमेरिका में आर्थिक हालात खराब होने की आशंका बनी और यूरोप के ऋण संकट के जल्द समाधान के आसार नहीं है। इससे दुनिया में सोने के सबसे बडे़ उपभोक्ता देश भारत में सोने के दाम रिकॉर्ड स्तर पर रहे। देश में सोना शगुन का प्रतीक है और इससे धारण करना शुभ माना गया है। कारोबारियों का कहना है कि सराफा बाजारों में नए सोने की मांग नहीं है।

खुदरा व्यापारी भी बाजार का रुख नहीं कर रहे हैं। हालांकि जानकारों का कहना है कि मानसून के बेहतर होने से जेवराती सोने की मांग में इजाफा हो सकता है। इसमें तीन से चार महीनों का समय लग सकता है। देश में विवाह शादी के सीजन में भी सोने की मांग में वृद्धि होती है। भारत के अलावा एशिया के अन्य बाजारों में भी पुराने सोने का जोर है। थाईलैंड और हांगकांग में भी पुराना सोना बेचा जा रहा है। पूर्वी एशिया के देशों से सोना चीन जा रहा है। आंकड़ों के अनुसार अप्रैल में हांगकांग से 101 टन सोना चीन भेजा गया है, जोकि इससे पिछले माह की तुलना में 62 प्रतिशत अधिक है।

Spotlight

Related Videos

दावोस पीएम मोदी की तारीफ में सुपरस्टार शाहरुख खान ने पढ़े कसीदे

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls