बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

रेलवे ने बढ़ाए पार्सल और लगेज के रेट

Market Updated Wed, 06 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Railway-increases-the-rate-of-parcels-and-luggage

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
रेलवे ने मालभाड़ा बढ़ाने के दो महीने बाद ही अब पार्सल और लगेज के रेट 25 फीसदी तक बढ़ा दिए हैं। यह बढ़ोतरी 1 जून से प्रभावी से लागू भी कर दी गई है। रेलवे के इस कदम से पहले ही महंगाई की मार से जूझ रहे आम आदमी की मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं। पार्सल के जरिए आम तौर पर भेजी जाने वाली वस्तुओं में दाल, आटा, टायर, दवाएं, मैगजीन आदि भी शामिल हैं। रेट बढ़ने से इनके दामों में इजाफा होना भी तय माना जा रहा है।
विज्ञापन


हालांकि रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सफाई में कहा कि हमने पार्सल और लगेज के रेट छह साल बाद बढ़ाए हैं। दरों को तर्कसंगत बनाने के लिए ऐसा किया गया है। पार्सल दरें काफी कम थीं, जबकि मालभाड़े और पार्सल दरों में एकरूपता होनी चाहिए। मालूम हो कि रेलवे ने मार्च में मालभाड़ा 20 फीसदी तक बढ़ा दिया था। पार्सल और लगेज के रेट में इससे पहले बढ़ोतरी वर्ष 2006 में की गई थी। उन्होंने बताया कि नई दरें समाचार पत्र और मैगजीन समेत सभी वस्तुओं पर प्रभावी होंगी। पार्सल और लगेज दरों में इजाफे से रेलवे को 370 करोड़ रुपये की अतिरिक्त आमदनी होगी। 2011-12 में रेलवे को इस मद में करीब 1600 करोड़ रुपये का राजस्व हासिल हुआ था।


हालांकि अधिकारी ने बताया कि पार्सल और लगेज की दरों में यह बढ़ोतरी स्पेशल पार्सल ट्रेनों पर लागू नहीं होगी। रेलवे 19 स्पेशल पार्सल ट्रेनें चलाती है। रेलवे में तीन तरह की पार्सल दरेें हैं, स्टैंडर्ड, प्रीमियम और राजधानी। स्टैंडर्ड रेट गैर एक्सप्रेस ट्रेनों में बुक होने वाले पार्सल के लिए हैं। प्रीमियम रेट एक्सप्रेस और मेल ट्रेनों में बुक होने वाले पार्सल के लिए हैं, जबकि राजधानी दरें राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस में बुक होने वाले पार्सल के लिए हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us