सरकार के इशारे पर चल रहीं तेल कंपनियां

Market Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
Running-the-government-at-the-behest-of-oil-companies
ख़बर सुनें
आम आदमी के जबरदस्त आक्रोश और राजनीतिक दलों के चौतरफा दबाव में भले ही सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल मूल्य में दो रुपए प्रति लीटर कटौती का ऐलान कर दिया, लेकिन यह राहत काफी नहीं है। पेट्रोल मूल्य में अभूतपूर्व 7.56 रुपए प्रति लीटर के इजाफे के बाद दो रुपए की मामूली कटौती को विपक्षी दलों ने बेहद कम मानते हुए पूरी तरह रौलबैक की आवाज फिर बुलंद की है। भाजपा ने दो रुपए की कटौती को जनता के साथ धोखा करार दिया है।
जनता उठा रही पक्ष-विपक्ष की लड़ाई का खामियाजा
वास्तव में 23 मई को हुई 7.56 रुपये लीटर की बढ़ोतरी के आधार पर दो रुपये की कमी महज 27 फीसदी ही है। तेल कंपनियों के इस निर्णय को आम आदमी के आंसू पोछने का काम कहा जा सकता है, आंसू रोकने का नहीं। हालांकि कंपनियों ने पेट्रोल के दाम घटाने का निर्णय दो दिन पूर्व हुई बैठक में ही कर लिया था। लेकिन सरकार के इशारे पर तत्काल कटौती की घोषणा नहीं हुई थी।

दरअसल सरकार नहीं चाहती थी कि भारत बंद के तत्काल बाद पेट्रोल के दाम घटाकर इसका श्रेय विपक्षी दलों को दिया जाए। इसी के चलते पेट्रोलियम कंपनियों की बैठक में पेट्रोल के दामों में कटौती करने के निर्णय को टाल दिया गया था। यही नहीं आम आदमी के बढ़ते आक्रोश को देखते हुए एलपीजी और डीजल में संभावित मूल्य वृद्धि को भी फिलहाल कुछ दिनों के लिए रोक दिया गया है।

कांग्रेसी नेताओं ने भी की मूल्यवृद्घि की निंदा
भाजपा प्रवक्ता राजीव प्रताप रुड़ी ने कहा कि विश्व बाजार में कच्चे तेल की कीमतें नीचे आई हैं और तेल कंपनियां मुनाफे में हैं। इसलिए रोलबैक होना चाहिए। जबकि पेट्रोलियम राज्यमंत्री आरपीएन सिंह ने कटौती को आम आदमी के लिए राहत बताते हुए कहा कि यह तेल कंपनियों का फैसला है और इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं है।

गौरतलब है कि विपक्ष ही नहीं यूपीए की सबसे बड़ी घटक ममता बनर्जी और करुणानिधि ने इस मूल्यवृद्धि के खिलाफ मुखर आवाज उठाई थी। नाजुक मौकों पर सरकार की नैया पार लगाती आ रही समाजवादी पार्टी ने भी सरकार को आड़े हाथों लिया था।

और तो और खुद कांग्रेस के दिग्गज यूपीए सरकार के नंबर तीन रक्षामंत्री एके एंटनी से लेकर प्रवासी भारतीय मामलों के मंत्री वायलार रवि तक ने मूल्यवृद्धि के खिलाफ सार्वजनिक रूप से अपनी नाराजगी जाहिर की है। शायद इन चौतरफा दबावों का ही असर है कि तेल कंपनियों ने शनिवार को दो रुपए की कटौती के बाद आगे भी कच्चे तेल के विश्व बाजार में दाम और डालर के मुकाबले रुपए के मूल्य में स्थितरता आने पर कीमतों में कुछ और कमी के संकेत दिए हैं।

Recommended

Spotlight

Related Videos

PM मोदी ने साल 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करने पर कहा ये

आज भारत अपना 72वां स्वेतंत्रता दिवस मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इस दौरान पीएम मोदी ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की बात की।

15 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree