फ्री रोमिंग का सपना अभी दूर की कौड़ी

Market Updated Fri, 01 Jun 2012 12:00 PM IST
Free-roaming-far-fetched-dream
सरकार ने भले ही देशभर में फ्री रोमिंग का सपना लोगों को दिखाया हो लेकिन इसे लागू कर पाना उसके लिए इतना आसान नहीं होगा।
माना जा रहा है कि सरकार के इस प्रस्ताव का हाल मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी सेवा की तरह न हो जाए, जिसे लागू होने में सालों लग गए। नई दूरसंचार नीति के साथ फ्री रोमिंग के ऐलान पर मोबाइल कंपनियों ने सवाल खड़ा कर दिया है। साथ ही दूरसंचार विशेषज्ञ भी इस पर अमल होने पर सवालिया निशान खड़ा कर रहे हैं। वहीं खुद सरकार इसे लेकर निश्चित नहीं है कि फ्री रोमिंग का सपना आखिर कब पूरा होगा।

मोबाइल फोन कंपनियों के संगठन सीओएआई के अध्यक्ष राजन मैथ्यू ने अमर उजाला को बताया कि फ्री रोमिंग की बात कही गई है लेकिन सरकार ने देश में एक ही लाइसेंस यानी पैन इंडिया लाइसेंस को लेकर अभी भी स्थिति स्पष्ट नहीं की है। सरकार को राष्ट्रीय लाइसेंस नीति के तहत इसे स्पष्ट करना चाहिए।

मैथ्यू ने कहा कि इसे लेकर कई कानूनी मसले खड़े हो सकते हैं। राज्य सरकार भी इसके लिए तैयार होती है या नहीं। यह भी कहना मुश्किल है। सुरक्षा का मुद्दा भी इस सिलसिले में बड़ा सवाल है।

वहीं टेलीकॉम विशेषज्ञ सुधीर उपाध्याय कहते है कि इसे लागू करना कंपनियों के लिए घाटे का सौदा भी है। इसलिए भी वह इसे लागू करने में आनाकानी करेंगी। जिस तरह मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी सेवा को लागू करने में लंबा समय लगा था। वैसे ही इस मामले में भी हो सकता है।

Spotlight

Related Videos

शिवाजी महाराज के बारे में क्या ये 10 बातें आप जानते हैं?

देश के महानतम हिंदू राजा में से एक छत्रपति शिवाजी महाराज को इस देश का बच्चा- बच्चा जानता है। मगर क्या आप जानते हैं कि शिवाजी का नाम भगवान शिव के नाम पर नहीं रखा गया था। महान मराठा वीर शिवाजी महाराज के जन्मदिन पर आपको बताते हैं ऐसी ही और रोचक बातें।

18 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen