मूंगफली दिला रही है महंगे खाद्य तेलों से राहत

Market Updated Wed, 30 May 2012 12:00 PM IST
Peanut-oil-is-getting-expensive-food-relief
ख़बर सुनें
गुजरात और आंध्र प्रदेश सहित अन्य राज्यों में मूंगफली की पैदावार बढ़ने का असर आम आदमी को सस्ते खाद्य तेलों के रूप में मिलना शुरू हो गया है। पिछले बीस दिनों में न सिर्फ साबुत मूंगफली के दाम 400 रुपये प्रति क्विंटल तक नीचे आ चुके हैं, बल्कि खाद्य तेलों में भी मूंगफली सहित सरसों, सोयाबीन रिफाइंड, बिनौला और पॉम आयल की कीमतों में भी 500 से 700 रुपये क्विंटल की कमी हुई है। ग्लोबल स्तर पर अगले महीने इंडोनेशिया में नए पॉम की निकासी शुरू होने की खबरों से विदेशी खाद्य तेलों में भी मंदी का रुख बन गया है।
मूंगफली तेल के दाम 700 रुपये लुढ़के
कारोबारियों का कहना है कि महंगाई से जूझ रहे आम आदमी को अगले चार महीनों तक खाद्य तेलों की ऊंची कीमतों का सामना नहीं करना पड़ेगा। रबी सीजन में मूंगफली की पैदावार बढ़ने से घरेलू खाद्य तेलों में मंदी का रुख बना हुआ है। राजकोट में साबुत मूंगफली के दाम 400 रुपये तक गिरकर 4,800 रुपये क्विंटल रह गए हैं।

वहीं, मूंगफली तेल के दाम भी 700 रुपये लुढ़ककर 12,300 से 12,400 रुपये प्रति क्विंटल पर आ गए हैं। मूंगफली में चल रही गिरावट का असर दूसरे खाद्य तेलों पर भी पड़ा है। सरसों तेल के दाम 6,900 से 7,000 रुपये और सोयाबीन रिफाइंड का दाम 7,300 रुपये प्रति क्विंटल पर आ गया है।

खपत की अपेक्षा कम हुआ तेल का उत्पादन
कृषि मंत्रालय के मुताबिक, रबी सीजन में मूंगफली की पैदावार 18.81 लाख टन तक पहुंच गई है, जोकि पिछले रबी सीजन के 16.22 लाख टन के मुकाबले 2.59 लाख टन अधिक है। हालांकि 2011-12 के दौरान तिलहनों का कुल उत्पादन 300 लाख टन ही हुआ है, जोकि घरेलू खाद्य तेलों की बढ़ती मांग को देखते हुए कम है। इसके बावजूद अर्जेंटीना, ब्राजील और इंडोनेशिया की बिकवाली से अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी खाद्य तेलों के दाम ढीले हैं। इससे मानसून सीजन में आम आदमी को खाद्य तेलों के लिए ऊंची कीमत नहीं चुकानी होगी।

Recommended

Spotlight

Related Videos

सलमान से दुश्मनी प्रियंका को पड़ी भारी

आज हम आपको बताने जा रहे हैं आखिर क्यों प्रियंका को हॉलीबुड में नहीं मिल रही फिल्में, जाने लोग क्यों हुए दीपिका और प्रियंका पर नाराज, वरूण ने ऐसा क्या काम किया जो डेविड धवन हुए दुखी और हुमा ने आखिर ऐसा क्या कहा जो तीनों खान हुए नाराज।

21 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree