विज्ञापन

रुपये को सहारा दे आरबीआई: सरकार

Market Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
RBI-to-support-RS-Government
ख़बर सुनें
रुपये की बदहवास गिरावट को संभालने के लिए सरकार चाहती है कि रिजर्व बैंक को अब प्रभावी रूप से दखल देना चाहिए। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री आनंद शर्मा ने कहा है कि रुपये में स्थिरता लाने के लिए रिजर्व बैंक को फौरन जरूरी कदम उठाने होंगे। अब आरबीआई को सक्रिय रूप से मुद्रा कारोबार में हस्तक्षेप करना होगा। बुधवार को मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 55.22 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया।
विज्ञापन
विज्ञापन
वाणिज्य मंत्री शर्मा ने बताया कि, मैंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी से बातचीत की। सरकार ने यह निर्णय किया है कि रुपये में स्थिरता लाने के लिए रिजर्व बैंक को प्रभावी रूप से दखल देना चाहिए। रुपये की कमजोरी गंभीर चिंता का विषय है। इसकी वजह से आयात बिल में भारी इजाफा हुआ है और यह अन्य दूसरे कंपोनेंट को भी प्रभावित कर रहा है।

निर्यात में तेजी लाने और आयात-निर्यात में संतुलन लाने के लिए किए जा रहे उपायों के बारे में शर्मा ने कहा कि देश का द्विपक्षीय कारोबार 788 अरब डॉलर पर पहुंच गया है। नई व्यापार नीति निर्यात बढ़ाने में सहायक होगी। आगामी 5 जुलाई तक नई नीति तैयार हो जाएगी। कीमतों में बेलगाम बढ़ोतरी के संदर्भ में वाणिज्य मंत्री ने कहा कि ग्लोबल अर्थव्यवस्था में यही स्थिति बनी हुई है। देश में मूल्य वृद्धि के लिए सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

ग्लोबल स्तर पर पेट्रोलियम कीमतों में तेजी के कारण देश का आयात बिल पहले ही बहुत अधिक हो चुकी है। रुपये की गिरावट कारण पेट्रोलियम बिल बढ़कर करीब 154 अरब डॉलर पर पहुंच चुका है। उन्होंने कहा कि कूकिंग ऑयल, दालें और अन्य कामोडिटी के आयात के बोझ का दबाव भी व्यापार घाटे पर पड़ रहा है।

'दो-तीन महीने बनी रहेगी गिरावट'
रुपये में अभी दो से तीन महीने तक कमजोरी बनी रह सकती है। हमारा आयात, निर्यात के मुकाबले कहीं ज्यादा है। इससे हो रहे व्यापार घाटे को पूरा करने के लिए ज्यादा विदेशी मुद्रा की जरूरत है, लेकिन डॉलर की मांग में तेजी के कारण इसकी ग्लोबल सप्लाई कम हो है। इसके अलावा रुपये को संभालने के लिए आरबीआई अभी तक अपने रिजर्व का ज्यादा इस्तेमाल नहीं कर रहा है।
-डीके जोशी, चीफ इकोनॉमिस्ट, क्रिसिल

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

कुंभ 2019: आशुतोषानंद गिरि बने महामंडलेश्वर, निरंजनी अखाड़े में चादर ओढ़ाकर दी गई पदवी

पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी की ओर से प्रयाग कुंभ पर्व के दौरान रविवार को महामंडलेश्वर पद पर पट्टाभिषेक की शुरुआत हुई।

14 जनवरी 2019

विज्ञापन

प्लेन में ‘डायमंड’ लगे देखकर चौंके लोग, जानिए असली हकीकत

डायमंड लगे  इस प्लेन को देखकर लोग चौंक गए हैं। सोशल मीडिया पर तरह तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, क्या है इसकी हकीकत जानिए

7 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree