बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

कच्चा तेल 108 डॉलर से नीचे उतरा

Market Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Crude-oil-down-below-doller-108

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
अंतरराष्ट्रीय कारोबार के दौरान कच्चा तेल के दाम 108 डॉलर प्रति बैरल से नीचे उतर गए। चीन और यूरोप में मांग घटने और अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी व ईरान के बीच समझौता होने की अटकलों से बुधवार को क्रूड में नरमी देखी गई। कारोबार के दौरान लंदन ब्रेंट के दाम 107.57 डॉलर प्रति बैरल पर दर्ज किए गए। अमेरिकी कच्चा तेल 91.11 डॉलर प्रति बैरल पर रहे। कारोबार के दौरान इसके दाम 90.91 डॉलर प्रति औंस तक गिर गए।
विज्ञापन


भरा हुआ है अमेरिका का ईंधन भंडार
डॉलर अन्य मुद्राओं के मुकाबले मजबूत हो रहा है। कच्चे तेल का कारोबार डॉलर के संदर्भ होता है। इससे स्थानीय मुद्राओं में कच्चा तेल महंगा हो रहा है और ईंधन की मांग घट रही है। अमेरिका में ईंधन के भंडार भरे हुए हैं। ताजा आंकड़ों के अनुसार, अमेरिका के ईंधन भंडारों में 15 लाख बैरल का इजाफा देखा गया है। इससे भी कच्चे तेल के दामों पर दबाव बन रहा है।


पूर्वी एशिया बाजार होंगे प्रभावितः विश्व बैंक
कच्चे तेल के बाजार में कीमतों पर दबाव बना हुआ है। चीन में औद्योगिक उत्पादन घट रहा है। विश्व बैंक ने चीन की आर्थिक वृद्धि का अनुमान 8.4 फीसदी से घटाकर से घटाकर 8.2 फीसदी कर दिया है। विश्व बैंक का कहना है कि इसका असर पूरे पूर्वी एशिया पर पड़ेगा।

चीन दुनिया में दूसरा बड़ा तेल उपभोक्ता देश है। यूरो मंडल की वित्तीय हालत खराब हो रही है। वित्तीय संकट से निपटने के तरीकों पर फ्रांस और जर्मनी के बीच कोई सहमति नहीं बन रही है। उधर, ईरान के विवादास्पद परमाणु कार्यक्रम पर समझौता होने की संभावना है। इससे परिवहन आदि में बाधाएं नहीं होंगी और कच्चे तेल की आपूर्ति सामान्य रहने की उम्मीद है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X